पड़ोसी राज्यों से मध्यप्रदेश में घुसे 100 Naxalite, अलर्ट पर पुलिस प्रशासन

मध्य प्रदेश में छत्तीसगढ़ (Chhattisgarh) और महाराष्ट्र (Maharashtra) के लगभग 100 नक्सली (Naxalite) घुस आए हैं। जिनका उद्देश्य अपने आधार का विस्तार करना है।

बालाघाट, डेस्क रिपोर्ट। इन दिनों ऐसी जानकारी मिल रही है कि मध्य प्रदेश में छत्तीसगढ़ (Chhattisgarh)और महाराष्ट्र (Maharashtra) के लगभग 100 नक्सली (Naxalite) घुस आए हैं। जिनका उद्देश्य अपने आधार का विस्तार करना है। 100 नक्सलियों के मध्यप्रदेश (Madhya Pradesh) में आने की सूचना मिलने के बाद पुलिस प्रशासन अलर्ट पर है। इसके साथ ही इनसे बचाव के लिए राज्य सरकार ने प्रभावित क्षेत्रों में अर्धसैनिक बलों (Paramilitary forces) की छह कंपनियां नियुक्त करने की मांग की है।

100 नक्सलियों के घुसने की खबर

इस संबंध में अधिकारी ने बताया कि नक्सलियों से सुरक्षा के लिए जल्द ही मध्य प्रदेश के बालाघाट (Balaghat) और आदिवासी बहुल मंडला (Tribal dominated mandala) जिले में सुरक्षा बलों को तैनात किया जाएगा। क्योंकि इन्हीं स्थानों पर नक्सलियों (Naxalites) के घुसे होने की जानकारी प्राप्त हुई है। अधिकारी ने यह भी कहा कि ‘हमारे सूत्रों से मिली जानकारी के अनुसार, करीब 100 नक्सली पिछले कुछ दिनों से छत्तीसगढ़ (Chhattisgarh) और महाराष्ट्र (Maharashtra) से मध्यप्रदेश (Madhya Pradesh) में घुस आए हैं। जिनका उद्देश्य इस क्षेत्र में अपने आधार का विस्तार (Base expansion) करना है।’ अधिकारी ने कहा कि यह नक्सली (Naxalite) महाराष्ट्र और छत्तीसगढ़ की सीमाओं (Chhattisgarh border) से बालाघाट जिले के अंदर आए हैं। बता दें कि बालाघाट और मंडला जिले एक-दूसरे से लगे हुए हैं।

नक्सलियों के 6 समूह सक्रिय

बताया जा रहा है कि बालाघाट और मंडला जिले में नक्सलियों के करीब 6 समूह सक्रिय है। बता दें कि पिछले महीने मध्य प्रदेश के गृह मंत्री नरोत्तम मिश्रा ने बालाघाट जिले का दौरा किया था। इस दौरान उन्होंने पत्रकारों से चर्चा करते हुए बताया कि नक्सलवाद से निपटने के लिए जल्द ही अर्धसैनिक बलों की 6 कंपनियां नक्सल प्रभावित क्षेत्रों जैसे- बालाघाट और मंडला में तैनात किए जाएंगे।

अधिकारी ने कहा कि केंद्रीय रिजर्व पुलिस बल (सीआरपीएफ) की एक बटालियन बालाघाट जिले पर तैनात है। इसके अलावा नक्सलियों से निपटने के लिए स्पेशल रुप से प्रशिक्षण प्राप्त मध्य प्रदेश पुलिस की हॉक फोर्स पहले से ही बालाघाट पर तैनात है।

मुठभेड़ में मारे गए थे तीन नक्सली

पुलिस ने कहा कि नवंबर और दिसंबर 2020 में बालाघाट जिले में पुलिस के साथ मुठभेड़ में तीन महिला माओवादी मारी गई थी। जिनमें से दो छत्तीसगढ़ की रहने वाली थी और एक महिला माओवादी महाराष्ट्र की थी। उन्होंने कहा कि इसी से अंदाजा लगाया जा सकता है कि पड़ोसी राज्यों से ही मध्यप्रदेश में नक्सलियों ने प्रवेश किया है। उन्होंने यह भी बताया कि बालाघाट जिले में एक नक्सली को सितंबर 2020 में पुलिस ने पकड़ा था, जो छत्तीसगढ़ से बालाघाट में घुसा था।

छत्तीसगढ़ से मध्यप्रदेश में नक्सलियों का प्रवेश

इसके अलावा छत्तीसगढ़ के बीजापुर जिले की रहने वाली महिला नक्सली शारदा, जो 25 वर्ष की थी। इस पर पुलिस प्रशासन ने 8 लाख रुपए के इनाम की घोषणा की थी। जिसमें छत्तीसगढ़ पुलिस प्रशासन ने 5 लाख रुपए का इनाम रखा था, तो वहीं मध्य प्रदेश ने 3 लाख रुपए के इनाम की घोषणा की थी। इस नक्सली महिला की मौत 6 नवंबर 2020 को बालाघाट जिले में पुलिस की मुठभेड़ में हुई थी।

मुठभेड़ में नक्सली हुए थे ढेर

पड़ोसी राज्यों से मध्यप्रदेश में घुसे कई नक्सली पुलिस मुठभेड़ में मारे गए है। जिसमें छत्तीसगढ़ के बस्तर क्षेत्र के गंगलूर से मध्यप्रदेश में आई नक्सली सावित्री और वहीं महाराष्ट्र के गढ़चिरौली की नक्सली शोभा भी बालाघाट जिले में पुलिस की मुठभेड़ में मारी गई थी। इन दोनों ही महिला नक्सली पर पुलिस प्रशासन ने 14-14 लाख रुपए इनाम की घोषणा की थी। बालाघाट जिले की सीमा छत्तीसगढ़ और महाराष्ट्र से लगी हुई है। जिसके कारण आए दिन नक्सली अपने आधार का विस्तार करने के लिए मध्यप्रदेश में प्रवेश कर रहे है।