रणजी ट्रॉफी : 21 साल के सुवेद पारकर ने डेब्यू पर ही जड़ा दोहरा शतक, अपने कोच के 28 साल पुराने रिकॉर्ड की बराबरी की

सुवेद पारकर ऐसे दूसरे खिलाड़ी हैं, जिन्होंने रणजी ट्रॉफी में नॉकआउट मैच में डेब्यू करते हुए दोहरा शतक जड़ा हो। इससे पहले रणजी क्रिकेट के दिग्गज बल्लेबाज अमोल मजूमदार ने साल 1994 में हरियाणा के खिलाफ 260 रनों की पारी खेली थी।

नई दिल्ली, डेस्क रिपोर्ट। रणजी ट्रॉफी वहीं मंच है, जहां युवा खिलाड़ी अपने खेल को संवारते है और अपनी प्रतिभा के दम पर देश का प्रतिनिधितित्व करने का मौका पाते है। युवा खिलाड़ी कभी-कभी ऐसा प्रदर्शन कर जाते है जो वर्षों तक दर्शकों के जेहन में वहीं आगामी टीम को बनाने के लिए राष्ट्रिय चयनकर्ताओं के दिमाग में रह जाते है।

ऐसा ही प्रदर्शन मुंबई के 21 वर्षीय खिलाड़ी सुवेद पारकर ने किया है, जिन्होंने अपने डेब्यू मैच में दोहरा शतक जड़ दिया है। इस दौरान उन्होंने अपने कोच अमोल मजमूदार के 28 साल पुराने रिकॉर्ड की भी बराबरी कर ली है।

दरअसल, सुवेद पारकर ऐसे दूसरे खिलाड़ी हैं, जिन्होंने रणजी ट्रॉफी में नॉकआउट मैच में डेब्यू करते हुए दोहरा शतक जड़ा हो। इससे पहले रणजी क्रिकेट के दिग्गज बल्लेबाज अमोल मजूमदार ने साल 1994 में हरियाणा के खिलाफ 260 रनों की पारी खेली थी। अब 28 साल बाद जब अमोल मजूमदार मुंबई टीम के कोच हैं, तब उनकी कोचिंग में ही सुवेद पारकर ने ये इतिहास रचा है।

ये भी पढ़े … क्रिकेट के मैदान में भिड़े सपा-बीजेपी के विधायक, इस टीम ने मारी बाजी

बता दे, कर्नाटक क्रिकेट एसोसिएशन स्टेडियम पर उत्तराखंड और मुंबई के बीच क्वार्टर-फाइनल मुकाबला खेला जा रहा है, जहां मुंबई ने टॉस जीतकर पहले बल्लेबाजी करने का निर्णय लिया है। मैच के दूसरे दिन सुवेद ने अपना दोहरा शतक पूरा किया। दूसरे दिन के चायकाल तक मुंबई ने 6 विकेट खो कर 598 रन बना लिए है, जबकि अभी भी सुवेद पारकर (224 रन, 441 गेंद, 19 चौके, 3 छक्के) और तनुष कोटियां (27 रन, 39 गेंद, 1 चौका, 1 छक्का) बने हुए है।

फर्स्ट क्लास डेब्यू पर उच्चतम स्कोर –

  • 341 सकिबुल गनी (2022)
  • 267* अजय रोहेरा (2018)
  • 260 अमोल मजूमदार (1994)
  • 256* बाहिर शाह (2017)
  • 240 एरिक मार्क्स (1920)