4 दिन 63 कौओं की मौत, चिड़ियाघर प्रबंधन अलर्ट, केमिकल का छिड़काव शुरू

पिछले 4 दिनों में 63 कौओं  की मौत हुई थी उसमें से 2 कौओं का पोस्टमार्टम और जांच के बाद बर्ड फ्लू की पुष्टि हुई है, उसके बाद लगातार इस पूरे इलाके में अलर्ट जारी किया है और सभी को बर्ड फ्लू के प्रोटोकॉल पालन करने के निर्देश दिए गए हैं।

इंदौर, आकाश धौलपुरे। राजस्थान (Rajasthan) के झालावाड़ के बाद मध्यप्रदेश (Madhya Pradesh) के इंदौर (Indore) में कौओं (Crows) की मौत के बाद प्रशासन हरकत में आ गया है । दरअसल, इंदौर के डेली कॉलेज (Daily College) में कौओं की मौत में बर्ड फ्लू की पुष्टि होने के बाद एक तरह से हड़कम्प मच गया है। ये ही वजह है अब शहर का एकमात्र चिड़ियाघर प्रबंधन (Zoo Management) भी अलर्ट पर आ चुका है। इंदौर में चिड़ियाघर में रहने वाली सभी पक्षियों के एनक्लोजर में दवाइयों का छिड़काव किया जा रहा है इसके साथ ही उनकी विशेष देखभाल भी की जा रही है।

चिड़ियाघर के प्रभारी, डॉक्टर उत्तम यादव का कहना है कि इस तरीके से पिछले 4 दिनों में 63 कौओं  की मौत हुई थी उसमें से 2 कौओं का पोस्टमार्टम और जांच के बाद बर्ड फ्लू की पुष्टि हुई है, उसके बाद लगातार इस पूरे इलाके में अलर्ट जारी किया है और सभी को बर्ड फ्लू के प्रोटोकॉल पालन करने के निर्देश दिए गए हैं। इसके साथ ही उनका कहना है कि राहत की बात यह है कि यह फ्लू अभी तक केवल कबूतरों में ही पाया गया है क्योंकि कबूतर एक फ्री बर्ड (आजाद पक्षी) है । वह कहीं भी आ जा सकता है ऐसे में संभावना है कि राजस्थान से यहां फ्लू पहुंचा हो। किसी चिड़ियाघर बर्ड सेंटर में यदि फ्लू फैलता है तो उसे आसानी से काबू किया जा सकता है लेकिन यदि फ्री बर्ड में फ्लू पाया जाता है तो इसे रोक पाना थोड़ा मुश्किल होता है। बावजूद इसके  पशु चिकित्सा विभाग, नगर निगम और चिड़ियाघर प्रबंधन वर्तमान परिस्थितियो पर नजर बनाए हुए हैं।