एडिशनल एसपी दीपक ठाकुर निलंबित, लोकायुक्त में चालान पेश होने के कारण सरकार की कार्रवाई

दरअसल कुछ समय पहले लोकायुक्त पुलिस ने भ्रष्टाचार के एक मामले में एडिशनल एसपी दीपक ठाकुर समेत कुछ पुलिसकर्मियों के खिलाफ लोकायुक्त न्यायालय मे चार्जशीट पेश की थी।

भोपाल, डेस्क रिपोर्ट। गृह विभाग ने भोपाल के राज्य अपराध अन्वेषण ब्यूरो मुख्यालय में पदस्थ एडिशनल एसपी दीपक ठाकुर को निलंबित कर दिया है। दीपक के खिलाफ लोकायुक्त के विशेष न्यायालय में चालान पेश होने के कारण यह कार्रवाई की गई है।
गृह विभाग ने एडिशनल एसपी दीपक ठाकुर को निलंबित कर दिया है। निलंबन की अवधि में दीपक ठाकुर को पीएचक्यू में अटैच किया गया है।

एडिशनल एसपी दीपक ठाकुर निलंबित, लोकायुक्त में चालान पेश होने के कारण सरकार की कार्रवाई

दरअसल कुछ समय पहले लोकायुक्त पुलिस ने भ्रष्टाचार के एक मामले में एडिशनल एसपी दीपक ठाकुर समेत कुछ पुलिसकर्मियों के खिलाफ लोकायुक्त न्यायालय मे चार्जशीट पेश की थी। उन्हें कोर्ट में पेश होने का नोटिस भेजा गया था लेकिन दीपक ठाकुर फरार हो गए थे। बाद में उन्हें कोर्ट से जमानत मिल गई थी।

Gwalior News : ग्वालियर में डेंगू का कहर, सामने आई स्वास्थ्य विभाग की नाकामी

दरअसल पुणे की रहने वाली गुलशन जौहर की बेटी अमेरिका की एक कंपनी में जॉब करती थी और उसने जबलपुर के विक्रम राजपूत को कंपनी का एक कैमरा ढाई लाख रुपए में बेचा था। कैमरे में कुछ दिक्कत आने पर विक्रम ने कंपनी को इसकी शिकायत की लेकिन शिकायत निबटने के पहले ही साइबर सेल में मां-बेटी के खिलाफ FIR करा दी। पुलिस ने उन्हें गिरफ्तार करके जेल भेज दिया और जेल में बंद मां बेटी को बाहर निकालने के लिए दीपक ठाकुर सहित तीन पुलिसकर्मियों ने 3.5 लाख रू की डिमांड की।

Mandsaur News : डोडा चूरा तस्कर को पुलिस ने पकड़ा, 1 लाख 80 हजार का माल जब्त

इसकी जाच का जिम्मा डीएसपी साधना सिंह को सौंपा गया था और उसके बाद नीलम पटवा ने इसकी जांच की और चार्जशीट कोर्ट में पेश की गई। यह साक्ष्य पाए गए थे कि दीपक ठाकुर और तीन पुलिसकर्मियों ने पद का दुरुपयोग करके रिश्वत मांगी थी।