मदरसों में राष्ट्रगान : उत्तर प्रदेश के बाद हरियाणा और मध्य प्रदेश में भी हो सकता है अनिवार्य, शिक्षा मंत्री ने दिए संकेत

सबसे पहले उत्तर प्रदेश सरकार ने गुरुवार से मदरसों में राष्ट्रगान गाना अनिवार्य किया है। गत 9 मई को यूपी मदरसा शिक्षा बोर्ड के रजिस्ट्रार एसएन पांडे ने सभी जिला अल्पसंख्यक कल्याण अधिकारियों को इस बारे में आदेश जारी किया था।

नई दिल्ली, डेस्क रिपोर्ट। उत्तर प्रदेश की योगी सरकार के बाद अब हरियाणा सरकार भी राज्य के सभी मदरसों में राष्ट्रगान गाना अनिवार्य कर सकती है। राज्य के शिक्षा मंत्री कंवर पाल ने शुक्रवार को यह संकेत दिया। शिक्षा मंत्री ने कहा, ”इसमें कोई नुकसान नहीं है। राष्ट्रगान हर जगह गाया जाना चाहिए, चाहे वह मदरसा हो या स्कूल। इसमें किसी को कोई आपत्ति नहीं होनी चाहिए।”

वर्तमान परिदृश्य में शिक्षा को लेकर हरियाणा में सियासी पारा चढ़ा हुआ है, इससे पहले कांग्रेस नेता रणदीप सिंह सुरजेवाला ने राज्य सरकार से कक्षा 9 की नई इतिहास की किताब वापस लेने की मांग की थी, जिसमें 1947 में देश के विभाजन के कारणों में कांग्रेस की “तुष्टिकरण की नीति” का उल्लेख किया गया है।

इस बारे में पूछे जाने पर मंत्री ने कहा, “आप इतिहास को सुगर-कोटेड नहीं बना सकते। जब किताब कई चीजों पर कांग्रेस को श्रेय देती है, तो गलतियों को भी उजागर किया जाएगा। देश के विभाजन को स्वीकार करना एक गलती थी और इसका उल्लेख मिलेगा।”

आपको बता दे, सबसे पहले उत्तर प्रदेश सरकार ने गुरुवार से मदरसों में राष्ट्रगान गाना अनिवार्य किया है। गत 9 मई को यूपी मदरसा शिक्षा बोर्ड के रजिस्ट्रार एसएन पांडे ने सभी जिला अल्पसंख्यक कल्याण अधिकारियों को इस बारे में आदेश जारी किया था। पांडे ने आदेश में कहा है कि पिछली 24 मार्च को बोर्ड की बैठक में लिए गए निर्णय के अनुरूप नए शिक्षण सत्र से सभी मदरसों में प्रार्थना के समय राष्ट्रगान अनिवार्य कर दिया गया है।

उधर, उत्तर प्रदेश के इस निर्णय पर अब मध्य प्रदेश सरकार भी विचार कर रही है। गृहमंत्री नरोत्तम मिश्रा ने इस बात के संकेत दिए है। गृहमंत्री ने कहा कि उनके राज्य में भी इसी तरह के कदम पर विचार किया जा सकता है।

गृहमंत्री के अलावा मध्य प्रदेश भाजपा प्रमुख विष्णु दत्त शर्मा ने कहा, “यह अच्छी बात है। यह एक राष्ट्रगान है और इसे हर जगह गाया जा सकता है।”