अमृत पेयजल योजना का काम अटका, नगरपालिका और कंपनी एक दूसरे की बता रही लापरवाही

होशंगाबाद/इटारसी, राहुल अग्रवाल। 46 करोड़ रुपए की अमृत पेयजल याेजना के काम काे लेकर अब नपा और ह्यूम पाइप कंपनी आमने-सामने आ गई है। नपा का आराेप है कि निर्माण कंपनी ने याेजना के काम में लापरवाही बरती है। इसके कारण काम अब तक अधूरा है। नपा ने साफ कह दिया है कि- जब तक कंपनी टंकियां सहित बाकी काम पूरा नहीं करती तब उसे सप्लाई हैंडओवर नहीं करेंगे। इधर, कंपनी के इंजीनियराें ने शहर के दाे वार्ड (3 और 30) में पाइपलाइन नहीं बिछ पाने जिम्मेदार नपा काे बताया है। इंजीनियराें का आराेप है कि नपा की ओर से समय पर सहयाेग नहीं मिलने के कारण याेजना पूरी नहीं हाे पा रही है। बता दें कि अमृत पेयजल याेजना का काम मई 2016 में शुरू हुआ था। 4 साल बीतने के बाद भी पूरा नहीं हाे पाया है।

पेयजल की सप्लाई एक जवाबदारी का काम है

दाे साल से निर्माण कंपनी काे निर्माण के लिए टाइम एक्सटेंशन दिया जा रहा है। लेकिन यह टाइम एक्सटेंशन काम में देरी हाेना दंडात्मक है। कंपनी काे निर्माण शुरू हाेने की तारीख के बाद दाे साल में काम पूरा कराना था। पेयजल सप्लाई साैंपने कंपनी काे साैंपने के पहले याेजना का काम पूरा हाेने का सर्टीफिकेट कंपनी काे एमपीयूडीसी के माध्यम से देना हाेगा। शहर में पेयजल की सप्लाई एक जवाबदारी का काम है। आरसी शुक्ला, एई नगरपालिका

नपा की लापरवाही से पूरा नहीं हो रहा काम

^नपा की लापरवाही के कारण अब तक याेजना पूरी नहीं हाे पा रही है। शहर के दाे वार्ड 30 नंबर और 3 नंबर में पूर्व पार्षदाें ने पाइपलाइन नहीं बिछाने दी। इसमें भी नपा की ओर से सहयाेग नहीं मिला है।याेजना के सभी बड़े काम पूरे हाे चुके हैं। दाेनाें वार्डाें में केवल 6 किमी पाइपलाइन बिछनी है। शहर में सभी 7 पानी की टंकियां तैयार हैं उनकी टेस्टिंग भी पूरी हाे चुकी है। – भूपेश ढाेडके, कंपनी इंजीनियर