गुस्से में मंत्री, सड़कों की गुणवत्ता की जांच के निर्देश, लापरवाह पटवारी, पंचायत सचिव की जायेगी नौकरी

मंत्री ने कलेक्टर (Collector) को निर्देश दिये कि जिन पटवारियों के कारण किसानों को प्रधानमंत्री किसान सम्मान निधि योजना का लाभ नहीं मिल पा रहा उन पटवारियों को बर्खास्त करें साथ ही उन पंचायत सचिवों को भी नौकरी से बाहर करें जो सरकारी पैसा निकालने के बाद काम नहीं कराते।

ग्वालियर, अतुल सक्सेना। मध्यप्रदेश (Madhyapradesh) के उद्यानिकी व खाद्य प्रसंस्करण राज्य मंत्री (स्वतंत्र प्रभार) एवं नर्मदा घाटी विकास राज्य मंत्री और ग्वालियर ग्रामीण विधानसभा के विधायक भारत सिंह कुशवाह (Bharat Singh Kushwaha) ने लोक निर्माण विभाग द्वारा बनाई जा रहीं सड़कों की धीमी प्रगति और गुणवत्ता ठीक न होने पर नाराजगी जताई है। उन्होंने सड़कों की गुणवत्ता की जाँच तकनीकी समिति से कराने के निर्देश दिए। साथ ही कहा लोक निर्माण विभाग के ईएनसी (प्रमुख अभियंता) से भी सड़कों की गुणवत्ता की जाँच कराई जायेगी। श्री कुशवाह ने लोक निर्माण विभाग के कार्यपालन यंत्रियों को कारण बताओ नोटिस जारी करने के निर्देश भी दिए हैं। मंत्री ने कलेक्टर (Collector) को निर्देश दिये कि जिन पटवारियों के कारण किसानों को प्रधानमंत्री किसान सम्मान निधि योजना का लाभ नहीं मिल पा रहा उन पटवारियों को बर्खास्त करें साथ ही उन पंचायत सचिवों को भी नौकरी से बाहर करें जो सरकारी पैसा निकालने के बाद काम नहीं कराते।

राज्य मंत्री स्वतंत्र प्रभार भारत सिंह कुशवाह ने शुक्रवार को कलेक्ट्रेट के सभागार में कलेक्टर कौशलेन्द्र विक्रम सिंह की मौजूदगी में आयोजित हुई विभिन्न विभागों के अधिकारियों की बैठक में विकास कार्यों एवं सरकार की कल्याणकारी योजनाओं की समीक्षा की। उद्यानिकी राज्य मंत्री श्री कुशवाह ने खासतौर पर रायरू से नयागाँव एवं मालनपुर से बेहट रोड़, हस्तिनापुर से चक महरोली व शनिदेव मंदिर रोड़ सहित मुरार ग्रामीण क्षेत्र की अन्य सड़कों के निर्माण में हो रही देरी और इन सड़कों के निर्माण की गुणवत्ता ठीक न होने पर नाराजगी जाहिर की। कलेक्टर कौशलेन्द्र विक्रम सिंह ने श्री कुशवाह को आश्वस्त किया कि जिले में लोक निर्माण विभाग की सड़कों की गुणवत्ता की जाँच बारीकी से कराई जायेगी। जाँच के लिये गठित की जाने वाली समितियों में इंजीनियरिंग कॉलेज एवं राष्ट्रीय राजमार्ग के तकनीकी विशेषज्ञों को भी शामिल किया जायेगा। कलेक्टर ने बैठक में मौजूद एसडीएम व तहसीलदारों को निर्देश दिए कि सड़कों के निर्माण में रूकावट पैदा करने वाले लोगों को जेल भेजने की कार्रवाई करें।बैठक में अपर कलेक्टर रिंकेश वैश्य सहित संबंधित एसडीएम, तहसीलदार एवं संबंधित विभागों के जिला व खण्ड स्तरीय अधिकारी मौजूद थे। बैठक में खासतौर पर विधानसभा क्षेत्र ग्वालियर गामीण के अंतर्गत चल रहे विकास कार्यों की समीक्षा की गई।

लापरवाह पटवारियों के खिलाफ होगी बर्खास्तगी की कार्रवाई
जिन पटवारियों की वजह से पात्र किसान परिवारों को प्रधानमंत्री किसान सम्मान निधि योजना का लाभ नहीं मिल पा रहा है उनके खिलाफ सख्त कार्रवाई की जायेगी। राज्य मंत्री स्वतंत्र प्रभार भारत सिंह कुशवाह द्वारा की गई इस योजना की समीक्षा के दौरान कलेक्टर श्री सिंह ने इस योजना में सबसे कम प्रगति के लिये जिम्मेदार तीन पटवारियों के खिलाफ बर्खास्तगी की कार्रवाई करने के निर्देश संबंधित अधिकारियों को दिए। वहीं मुख्यमंत्री किसान कल्याण योजना की अच्छी प्रगति पर राज्य मंत्री श्री कुशवाह ने खुशी जाहिर की।

हर माह की 6, 7 व 8 तारीख को बटेगा खाद्यान्न
राज्य मंत्री स्वतंत्र प्रभार भारत सिंह कुशवाह की अध्यक्षता में आयोजित हुई बैठक में जिले में सभी पात्र परिवारों को शासकीय उचित मूल्य की दुकानों से खाद्यान्न मुहैया कराने के लिये अहम निर्णय लिया गया। इसके तहत जिले में हर माह की 6, 7 व 8 तारीख को उचित मूल्य की दुकानों से खाद्यान्न वितरित कराया जायेगा। खाद्यान्न वितरण पर निगरानी रखने के लिये जिला स्तरीय अधिकारी भी मौजूद रहेंगे। श्री कुशवाह ने कहा कि उचित मूल्य की दुकानों एवं ग्राम पंचायत मुख्यालय पर पात्र परिवारों की सूची जरूर प्रदर्शित की जाए। जिससे सूची में जुड़े नए पात्र परिवार भी खाद्यान्न प्राप्त कर सकें। कलेक्टर श्री सिंह ने नागरिक आपूर्ति निगम के प्रबंधक को हिदायत दी कि खाद्यान्न भण्डारण में देरी होने पर ट्रांसपोर्टर को ब्लैक लिस्ट करें। साथ ही तात्कालिक तौर पर उचित मूल्य के दुकानदारों के माध्यम से खाद्यान्न का उठाव कराया जा सकता है।

धनराशि निकालकर काम न कराने वाले पंचायत सचिव होंगे नौकरी से बाहर
राज्य मंत्री स्वतंत्र प्रभार भारत सिंह कुशवाह ने बैठक में यह भी कहा कि शासकीय धनराशि की निकासी कर काम न कराने की प्रवृत्ति को सख्ती से रोका जाए। इससे विकास कार्यों में देरी होती है और लोगों को योजनाओं का लाभ नहीं मिल पाता। मंत्री ने ग्राम पंचायत पारसेन में धनराशि निकालने के बाद भी विकास कार्य न कराए जाने पर नाराजगी जताई और कलेक्टर को कार्रवाई की लिए निर्देश दिया जिसके बाद कलेक्टर श्री सिंह ने यहाँ के पंचायत सचिव को नौकरी से बाहर करने की कार्रवाई करने के निर्देश दिए । उन्होंने अन्य ग्राम पंचायतों में चल रहे विकास कार्यों का 15 दिन के भीतर मूल्यांकन कराकर अनावश्यक रूप से एडवांस निकालने वाले पंचायत सचिवों के खिलाफ कार्रवाई करने की हिदायत भी दी। साथ ही कहा कि यदि ऐसी ही अनियमितता आगे सामने आई तो जनपद पंचायत के मुख्य कार्यपालन अधिकारी के खिलाफ भी कार्रवाई की जायेगी। बैठक में इसके अलावा संगीत सम्राट तानसेन की जन्म एवं साधना स्थली बेहट के सौंदर्यीकरण पर भी निर्णय लिया गया। कलेक्टर ने संबंधित अधिकारियों को प्लान बनाने के निर्देश दिये।