किसानों के लिए शिवराज सरकार की एक और घोषणा, जल्द शुरू होगी यह योजनाएं

राज्य मंत्री कुशवाह आज मंत्रालय में विभागीय अधिकारियों के साथ योजनाओं के प्रावधानों को तय करने के लिये चर्चा कर रहे थे।

Cabinet Meeting

भोपाल, डेस्क रिपोर्ट। मध्य प्रदेश (Madhya pradesh) में किसानों (farmers) के फसलों के हित के लिए और उनकी आमदनी (income) को दोगुना करने के लिए लगातार शिवराज सरकार नए फैसले ले रही है। ऐसे भी गुरुवार को खाद्य प्रसंस्करण एवं नर्मदा घाटी विकास राज्य मंत्री भारत सिंह कुशवाहा (Bharat singh kushwaha) ने अधिकारियों के साथ बैठक की। बैठक में उन्होंने किसानों के हित के लिए बड़ी घोषणा की। इसके साथ ही साथ किसानों की आय को दोगुना करने के लिए खेत चैन फेंसिंग (chain fencing) और जिला स्तर से उनके खेतों तक कोल्ड स्टोरेज चैन जैसी योजनाओं के प्रावधानों को अंतिम रूप देने की बात कही है।

दरअसल राज्य मंत्री कुशवाहा ने कहा कि किसानों के लिए जिला स्तर पर कोल्ड स्टोरेज (cold storage) के बाद अब कोल्ड स्टोरेज का विकेंद्रीकरण तहसील स्तर से मंडी तक किया जाना चाहिए। जिससे कि किसान खुद भी कोल्ड स्टोरेज स्थापित कर सके। इससे किसान खुद अपनी फसलों के उत्पादन के प्रोसेसिंग (processing) कर आय से अधिक लाभ अर्जित कर सकेंगे। इसके साथ ही साथ फसलों का उत्पादन करने वाले किसानों को आवारा मवेशी आदि से फसल की सुरक्षा के लिए खेत में चैन फेंसिंग की सुविधा भी जरूरी है। इसके जरिए किसान गर्मी के दिनों में भी अपनी फसल को सुरक्षित कर सकेगा।

इसके साथ ही राज्यमंत्री कुशवाहा ने योजनाओं की समीक्षा करते हुए कहा कि जैविक खेती को भी प्रदेश में बढ़ावा देने पर विचार किया जा रहा है। इसके साथ ही साथ राज्यमंत्री कुशवाहा ने कहा उद्यानिकी विभाग और एमपी एग्रो (MP Agro) द्वारा इस संबंध में इस योजनाओं को तय कर दिया गया है। जिससे जल्द ही प्रदेश में यह योजनाएं लागू की जाएगी।

Read More: आंगनबाड़ी वर्करों के लिए शिवराज सरकार का बड़ा फैसला

राज्य मंत्री कुशवाहा ने कहा कि किसानों के खेत पर 5 हजार मीट्रिक टन क्षमता वाले कोल्ड स्टोरेज बनाने का प्रावधान किया जा रहा है। इसके साथ ही साथ किसानों को छोटी क्षमता वाली छोटी यूनिट लगाने में प्रोत्साहित किया जाएगा। जिससे वह अपनी फसलों की प्रोसेसिंग कर उससे अधिक फायदा उठा सकेंगे।

बता दें कि राज्य मंत्री कुशवाह आज मंत्रालय में विभागीय अधिकारियों के साथ योजनाओं के प्रावधानों को तय करने के लिये चर्चा कर रहे थे। आयोजित बैठक में प्रमुख सचिव उद्यानिकी एवं खाद्य प्र-संस्करण कल्पना श्रीवास्तव और कमिश्नर उद्यानिकी एम.के. सिंह सहित अन्य अधिकारी मौजूद थे।