भोपाल मे कल से कोरोना की सस्ती और जल्द जाच,प्लाज्मा थैरेपी होगी शुरू

भोपाल।

कोरोना भोपाल में जमकर कहर बरपा रहा है, जिसको देखते हुए 24 जुलाई से लेकर 4 अगस्त तक शहर में राज्य सरकार ने टोटल लॉक डाउन घोषणा की थी। वहीं बुधवार को प्रदेश के गृह मंत्री नरोत्तम मिश्रा और स्वास्थ्य मंत्री विश्वास सारंग ने प्रेस वर्ता की।

मीडिया से मुखातिब होते हुए गृह मंत्री ने कहा कि अब तक कोरोना के 20 हजार 934 मरीज ठीक होकर अपने घर जा चुके है, जो एक बड़ी सफलता है। आज प्रदेश के अंदर 917 केस मिले है और 691 डिस्चार्ज हुए है। रिकवरी रेट बढ़कर 70 प्रतिशत आ गई है।

भोपाल में दिल्ली, उत्तरप्रदेश की तरह गुरुवार से एंटीजन टेस्ट शुरु हो रहा है। इसकी रिपोर्ट बहुत जल्दी आ जाती है, लोगों की मन की आशंका भी तुरंत दूर हो जाती है। वहीं भोपाल के अंदर टेस्टिंग कैपेसिटी को एक हजार से बढ़ाकर ढाई हजार किया गया है । भोपाल के अंदर अब नि:शुल्क ट्रीटमेंट और पेड़ ट्रीटमेंट की व्यवस्था है। वहीं लॉक डाउन से पहले कोविड केयर सेंटर में बैड की जो संख्या थी वो 146 थी जो अब बढ़कर 1 हजार 50 हो गई हैष  वर्तमान में 475न लोग भर्ती है। क्वारेंटाईन भी लॉक डाउन से पहले 139 थे जो बढ़कर 2 हजार 820 हो गए है।

आगे उन्होंने कहा कि अब भोपाल में जो कंटेनमेंट जोन है उनको बफर जोन कर दिया जाएगा या तो उनको घर तक सीमित रखने का विचार है। शहर में अब कंटेनमेंट जोन की भी संख्या बढ़ा रहे है। आज सीएम ने प्रदेशवासियों से हिम्मत नहीं हारने की अपील की है। साथ में सीएम ने कहा कि लॉक डाउन स्थायी हल नहीं है इसलिए अन्य विकल्पों पर विचार किया जाएगा। मुख्यमंत्री ने ये भी कहा कि पैसे की कोई भी कमी स्वास्थ्य सुविधाओं में नहीं आने दी जाएगी चाहे अन्य विभागो के बजट में कटौती ही क्यों ना करना पड़े।

वहीं लॉक डाउन के बढ़ने वाली खबर को नकारते हुए गृह मंत्री ने कहा कि आज ही प्रदेश के सीएम शिवराज सिंह चौहान ने कहा है कि अभी लॉक डाउन बढ़ाने पर कोई विचार नहीं है। वहीं लॉक डाउन कोई समस्या का समाधान नहीं है, हम अन्य विकल्पों पर विचार कर रहे है।