Arijit Singh Birthday: कम उम्र में सीखना शुरू किया संगीत, आज अपनी आवाज से इंडस्ट्री पर करते हैं राज

Arijit Singh Birthday

Arijit Singh Birthday : अरिजीत सिंह का जन्म 25 अप्रैल 1987 को पश्चिम बंगाल के मुर्शिदाबाद में हुआ था। अरिजीत के लिए संगीत की दुनिया में कई मुश्किलें थीं लेकिन उन्होंने इन संघर्षों से हार नहीं मानी और अपने करियर में कई महत्वपूर्ण मील स्टोन्स हासिल किए। उनकी आवाज के साथ लोगों का दिल जीतना उनकी स्पेशलिटी है। जिसका नतीजा ये है कि वे आज दुनिया भर में अपने फैंस के दिल और जुबान पर छाएं हुए हैं और अपने संगीत से लोगों की जिंदगी में रोमांस और रौनक लाते रहते हैं। उनका सफर फिर रुका नहीं, उन्होंने अनेक फिल्मों के लिए गाने गाए और संगीत इंडस्ट्री में अपनी एक अलग पहचान बनाई।

ऐसे मिला गाने का मौका

अरिजीत सिंह को संजय लीला भंसाली की फिल्मों में गाने का मौका मिला है जैसे ‘देवदास’, ‘बजीराव मस्तानी’, ‘पधारो म्हारे देस’, ‘पद्मावत’ और ‘गंगूबाई काठियावाड़ी’ जैसी फिल्मों में। अरिजीत सिंह को इन फिल्मों के गानों के लिए काफी सम्मान और प्रशंसा मिली है। उन्होंने ‘आशायें’ (2010), ‘तुझे भुला दिया’ (2010), ‘फिर मोहब्बत’ (2011), ‘चल वहाँ जाते हैं’ (2015) और ‘जब तक’ (2016) जैसे फिल्मों के लिए भी गाया है। इसके अलावा, उन्होंने एल्बम ‘तुम से ही’ जैसे अपने स्वयं के प्रोजेक्ट में भी गाया है।

कई पुरस्कार जीते

मीडिया रिपोर्ट्स के मुतबिक, अरिजीत अब एक गाने के लिए 10 से 12 लाख रुपये चार्ज करते हैं। बता दें कि अरिजीत को बचपन से ही संगीत का बहुत शौक था। इसलिए बहुत ही कम उम्र में म्यूजिक की तालीम हासिल करनी शुरू कर दी थी। उन्होंने फिल्मों के साथ-साथ भी टीवी शो में अपनी भूमिका निभाई है। उन्होंने संगीत शो “इंडियन आइडल” में भी जज के रूप में काम किया था। नेशनल फिल्म अवार्ड, फिल्मफेयर अवार्ड, फिल्में अवार्ड, इंटरनेशनल इंडियन फिल्म अवार्ड, स्टार स्क्रीन अवार्ड जैसे कई पुरस्कार जीते हैं।


About Author
Sanjucta Pandit

Sanjucta Pandit

मैं संयुक्ता पंडित वर्ष 2022 से MP Breaking में बतौर सीनियर कंटेंट राइटर काम कर रही हूँ। डिप्लोमा इन मास कम्युनिकेशन और बीए की पढ़ाई करने के बाद से ही मुझे पत्रकार बनना था। जिसके लिए मैं लगातार मध्य प्रदेश की ऑनलाइन वेब साइट्स लाइव इंडिया, VIP News Channel, Khabar Bharat में काम किया है। पत्रकारिता लोकतंत्र का अघोषित चौथा स्तंभ माना जाता है। जिसका मुख्य काम है लोगों की बात को सरकार तक पहुंचाना। इसलिए मैं पिछले 5 सालों से इस क्षेत्र में कार्य कर रही हुं।

Other Latest News