बालाघाट: जिले में कोरोना के आंकड़ों में इजाफा, मरीजों की संख्या 6, गांव सील

बालाघाट।सुनील कोरे।

बालाघाट जिले में कोरोना पॉजिटिव मरीजों की संख्या बढ़कर अब 6 हो गई है . मुख्य चिकित्सा एवं स्वास्थ्य अधिकारी डॉ मनोज पांडे ने बताया कि आई सी एम आर लैब जबलपुर से 24 मई की देर रात में प्राप्त रिपोर्ट के अनुसार खैरलांजी तहसील के ग्राम बेनी के 2 मरीज और लांजी तहसील के ग्राम मोहझरी के एक मरीज की रिपोर्ट पॉजिटिव आई है।

जिले में पाए गए तीन नए कोरोना पॉजिटिव मरीज की कांटेक्ट हिस्ट्री पता की जा रही है इनमें से 2 मरीज के गुजरात एवं एक मरीज के मुंबई से आने की जानकारी प्राप्त हुई है. इन तीनों मरीजों को सरदार पटेल होम्योपैथिक कॉलेज गायखुरी बालाघाट में बनाए गए कोविड हॉस्पिटल में उपचार के लिए भर्ती करा दिया गया है . इन मरीजों को संदिग्ध पाए जाने पर सैंपल लेने के साथ ही उन्हें जिला चिकित्सालय के आइसोलेशन वार्ड में रखा गया था. इन मरीजों की रिपोर्ट प्राप्त होने के साथ ही ग्राम बेनी और मोहझरी को सील कर दिया गया है. इसके पूर्व में तहसील के ग्राम भजियादंड के 3 मरीज कोरोना पॉजिटिव पाए गए थे और यह तीनों मुंबई से आए हैं।

वारासिवनी एसडीएम श्री संदीप सिंह ने बताया कि बेनी का एक मरीज गोंदिया की ओर से पैदल चलकर 18 मई को अपने गांव पहुंचा था. जबकि दूसरा मरीज अपने तीन साथियों के साथ 19 मई को महाराष्ट्र की एसटी बस से रजेगांव बार्डर पर पहुंचा था और उसे वहां से वारासिवनी तक पहुंचाया गया था. वारासिवनी से वह मोटरसाइकिल से बेनी पहुंचा था. बेनी के दोनों मरीज अपने गांव पहुंचने पर अपने घर नहीं गए थे बल्कि उन्हें पंचायत में बनाए गए क्वेरंटाइन सेंटर में रखा गया था. बेनी के क्वेरंटाईन सेंटर में रह रहे 4 संदिग्ध मरीजों के सैंपल कोरोना टेस्ट के लिए 23 मई को भेजे गए थे. 24 मई की रात्री में इनमें से 2 मरीज की रिपोर्ट पॉजिटिव आई है और 2 मरीज की रिपोर्ट नेगेटिव आई है।

लांजी एसडीएम श्री रविंद्र परमार ने बताया कि ग्राम महोझरी का कोरोना पॉजिटिव पाया गया युवक 17 मई को कारंजा बॉर्डर से जिले में प्रवेश किया था और उसे कारंजा से बालाघाट जाने बस में रवाना किया गया था. वह युवक गुजरात के अहमदाबाद से आया है.वह युवक भानेगांव में बस से उतरा था और अपने गांव मोहझरी पहुंचा था. मोहझरी का युवक पढ़ा लिखा है और काफी समझदार हैं जिसके कारण वह स्वयं को अपने घर पर ही क्वेरंटाईन में रखा हुआ था. उसे बुखार के लक्षण होने पर वह ग्राम भानेगांव डॉक्टर पाटिल के यहां चेकअप कराने के लिए गया था लेकिन डॉक्टर पाटिल ने उसे लांजी जाने की सलाह दी थी. लेकिन वह लांजी न जाकर अपने घर वापस आ गया था. मोहझरी का वह युवक अहमदाबाद में जिस साथी के साथ रूम पार्टनर था वह रतलाम का रहने वाला था और रतलाम में उसकी कोरोना रिपोर्ट पॉजिटिव आई थी. जिस पर उसने फोन करके मोहझरी के युवक को बताया कि वह भी अपना कोरोना टेस्ट करवा ले इस पर मोहझरी का युवक 22 मई को लांजी पालडोंगरी में जांच कराने के लिए पहुंचा था. लांजी में डॉक्टर ने उसे रोके रखा और एम्बुलेंस बुलवा कर उसे बालाघाट रवाना कर दिया था बालाघाट में उसका सैंपल लेकर आईसीएमआर लैब जबलपुर भेजा गया था. 24 मई की रात्रि में जबलपुर से प्राप्त रिपोर्ट में मोहझरी वह युवक कोरोना पॉजिटिव पाया गया है।

मोहझरी का युवक मोटरसाइकिल से लांजी जांच कराने के लिए गया था जब उसे लांजी से एंबुलेंस से बालाघाट ले जाया गया तो उसने अपने बहनोई को मोटरसाइकिल वापस ले जाने के लिए कहा था. ग्राम टेडवा का निवासी उसका बहनोई मोटरसाइकिल लेने लांजी आया था और उसने मोटरसाइकिल को बगैर सैनिटाइज किए अपने गांव ले जा लिया था। अब उसके बहनोई के माता-पिता पत्नी और बच्चे का भी सैंपल टेस्ट के लिए भेजा जा रहा है । ग्राम टेडवा में उसके बहनोई के घर के सामने ही विवाह समारोह भी चल रहा था जिसमें उसका बहनोई शामिल हुआ था।