Bhopal: सीएम शिवराज ने दिए निर्देश, ईरानियों के अवैध कब्जे पर प्रशासन की कार्रवाई जारी

अब इस मामले में जिला प्रशासन की टीम शनिवार को कार्रवाई करने के लिए भोपाल रेलवे स्टेशन के ईरानी अवैध कब्जे के क्षेत्र में पहुंची है।

सीएम शिवराज

भोपाल, डेस्क रिपोर्ट। मध्य प्रदेश (madhya pradesh) में अवैध कब्जे (Illegal encroachment) करने वालों पर प्रशासन (administration) की कार्रवाई जारी है। प्रशासन की टीम लगातार अवैध अतिक्रमणकारियों पर बड़ी कार्रवाई कर रही है। इसी बीच शनिवार को पुलिस ने भोपाल रेलवे स्टेशन (bhopal railway station) के पास इरानी डेरे के अवैध कब्जे को हटाने के लिए घेराबंदी की है। कहा जा रहा है कि मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान (Chiefminister shivraj singh chauhan) के निर्देश पर यह कार्रवाई की जा रही है।

दरअसल भोपाल रेलवे स्टेशन (Bhopal Railway Station) के पास हमीदिया सड़क के किनारे करीब 12000 वर्गफीट सरकारी जमीन पर ईरानियों का अवैध कब्जा है। जिस को हटाने के लिए आज कार्रवाई की जा रही है। इसके लिए पुलिस की टीम ने चारों तरफ से घेराबंदी कर ली है। वही सुबह के 9:00 बजे के आसपास अधिकारियों की मौजूदगी में प्रशासन की टीम यह कार्रवाई हो रही है।

बता दें कि अतिक्रमण की सूचना से पूर्व ही भोपाल रेलवे स्टेशन के प्लेटफार्म नंबर 6 के बाद अवैध कब्जे से दुकानदारों ने अपने सामान हटा लिए थे। वहीं अबतक किसी भी विरोध की खबर सामने नहीं आई है। इधर प्रशासन लगातार जेसीबी मशीन से अवैध कब्जे एवं निर्माण को हटाने का कार्य कर रही है।

Read More: पार्टी से निष्कासित नेता का कमलनाथ और दिग्विजय सिंह को लेकर बड़ा खुलासा

इस मामले में प्रशासन का कहना है कि जब भी अवैध अतिक्रमण हटाने की कोशिश की गई। किसी न किसी वजह से भारी विवाद हो गया। ज्ञात हो कि कुछ दिन पूर्व ही ईरानी क्षेत्र में पुलिस बल पर क्षेत्रवासियों ने हमला कर दिया था। पुलिस पर पथराव भी किया गया था। इतना ही नहीं तभी ईरानियों ने 40 राउंड फायरिंग कर पुलिस बल को एक कार्रवाई करने से रोक दिया था।

बता दें कि रेलवे स्टेशन प्लेटफार्म नंबर 6 के सामने की जमीन को लेकर केस भी दर्ज किए गए थे। जहां जिला न्यायालय में चल रहे केस पर 2017 में जिला प्रशासन के पक्ष में फैसला सुनाया गया था। अब इस मामले में जिला प्रशासन की टीम शनिवार को कार्रवाई करने के लिए भोपाल रेलवे स्टेशन के 12000 वर्गफीट सरकारी जमीन पर ईरानी अवैध कब्जे के क्षेत्र में पहुंची है।