एसटीएफ की बड़ी कार्रवाई, फर्जी वन मिलियन डॉलर को बेचने की फिराक में घूम रहे चार गिरफ्तार

एसटीएफ पुलिस अधीक्षक मनीष खत्री ने बताया कि चारो आरोपियों को गिरफ्त में लेकर कोर्ट में पेश किया गया और अब चार दिन की रिमांड में कई खुलासे होने की उम्मीद है।

इंदौर, आकाश धोलपुरे| एक मिलियन यूएस डॉलर के नकली नोट (Fake Currency) को बेचने के लिए एक गिरोह बीते कुछ दिनों इंदौर (Indore) के सांवेर (Sanwer) और उज्जैन (Ujjain) में सक्रिय था। इस बात की जानकारी इंदौर में एसटीएफ (STF) को मिल गई, जिसके बाद नकली नोट बेचने की फिराक में घूम रहे चार आरोपियों को एसटीएफ ने गिरफ्तार कर कोर्ट में पेश किया है और कोर्ट ने चारों आरोपियों को 4 दिन की रिमांड पर भेज दिया है।

दरअसल, जिस एक नोट को लेकर ये बड़ा खुलासा हुआ है वो आरोपियो के मुताबिक किसी बस में मिला था। जिसके बाद उज्जैन निवासी तरुण पिता कन्हैया लाल परमार, शेरू खान पिता मोहम्मद सलीम मेवाती, नईम पिता अब्दुल देलवी और मोहम्मद गुफरान पिता मोहम्मद इकबाल नकली अमेरिकन 1 मिलियन डॉलर को 5 लाख रुपए में बेचने की कोशिश कर रहे थे। लेकिन इस तरह की ठगी की वारदात को अंजाम देने के पहले ही पूरे मामले की जानकारी एसटीएफ को लग गई। लिहाजा, एसटीएफ की टीम ने एक सौदा तय कर ऑपरेशन को अंजाम दिया और सांवेर क्षेत्र में आशियाने ढाबे पर जाकर पहले आरोपियों को असली नोट दिखाए और फिर नकली वन मिलियन यूएस डॉलर को लेकर तुरंत दबिश दी और चारो आरोपियों को गिरफ्तार कर लिया।

बता दे कि एक मिलियन यूएस डॉलर की भारतीय मूल्य के हिसाब से कीमत 7 करोड़ 37 लाख 38 हजार होती है। आरोपी चाह रहे थे कैसे भी वो नकली नोट को ठिकाने लगाकर 5 से 7 लाख रुपये कमा ले लेकिन एसटीएफ की कार्रवाई ने आरोपियों को इरादों को नाकाम कर दिया। एसटीएफ पुलिस अधीक्षक मनीष खत्री ने बताया कि चारो आरोपियों को गिरफ्त में लेकर कोर्ट में पेश किया गया और अब चार दिन की रिमांड में कई खुलासे होने की उम्मीद है।