सिंधिया समर्थकों पर कांग्रेस की बड़ी कार्यवाही

उज्जैन।

प्रदेश के सियासी सरगर्मी को बढ़ाने के बाद सिंधिया(scindia) गुरुवार को भाजपा(bjp) में शामिल हो गए थे। इससे पहले उन्होंने मंगलवार को पार्टी से इस्तीफा दे दिया था। सिंधिया के इस्तीफा देने के बाद से ही प्रदेश में इस्तीफे का दौर चल पड़ा था। जहां बड़ी तादाद में सिंधिया के समर्थकों ने पार्टी से इस्तीफा दे दिया। अब इस बीच उज्जैन से एक खबर सामने आई है। जहां ज्योतिरादित्य सिंधिया(jyotiradiya scindia) का समर्थन करने की वजह से शहर कांग्रेस(city congress) ने पूर्व विधायक राजेंद्र भारती(rajendra bharti) सहित चार कार्यकर्ताओं को पार्टी से निकाल दिया है। बताते चलें कि इसमें मध्य प्रदेश कांग्रेस कमेटी के महासचिव संजय ठाकुर, उमेश सिंह के साथ पूर्व पार्षद दिलीप परमार भी शामिल है। निष्कासन के बाद उसकी सूचना मुख्यमंत्री कमलनाथ और साथ ही महासचिव दीपक बाबरिया को सौंपी गई है।

बता दे कि शहर कांग्रेस(congress) अध्यक्ष महेश सोनी ने बुधवार को संजय ठाकुर, राजेंद्र भारती, दिलीप परमार और उमेश सेंगर को आदेश जारी करते हुए पार्टी से बर्खास्त कर दिया था। गौरतलब है की शाजापुर और आगर जिले में 2 सीट कांग्रेस तो 1 सीट पर निर्दलीय विधायक का कब्जा है। यह तीनों ही कांग्रेस के करीबी हैं। इसलिए शहर में सिंधिया समर्थक के खिलाफ कार्यवाही शुरू कर दी गई है। वही पार्टी से निष्कासन के बाद पूर्व विधायक भारती ने मीडिया से चर्चा करते हुए कहा कि जहां हमारे महाराज है, हम भी वही जाएंगे। उन्होंने यह भी दावा किया कि उज्जैन जिले से करीबन 100 से ज्यादा नेता व कार्यकर्ता कांग्रेस से इस्तीफा देंगे। बता दें कि सिंधिया से मिलने के लिए भारती और अन्य समर्थित नेता गुरुवार को भोपाल पहुंचे थे।

गौरतलब हो कि मंगलवार को ज्योतिरादित्य सिंधिया के कांग्रेस से इस्तीफा देते ही प्रदेश से करीबन 10000 लोगों के इस्तीफा देने की खबर सामने आई थी। जिसमें से अधिकतर ग्वालियर संभाग के नेता एवं कार्यकर्ता थे।वहीं गुरुवार को बीजेपी(bjp) में शामिल होने के बाद शुक्रवार को सिंधिया ने राज्यसभा के लिए अपना नामांकन पत्र दाखिल किया।