नए साल में घरेलू गैस उपभोक्ताओं को बड़ी राहत, नहीं बढ़े भाव, यहां देखें अपने शहर के दाम

हालांकि कमर्शियल गैस सिलेंडर के दामों में इजाफा हुआ है

रसोई गैस

भोपाल, डेस्क रिपोर्ट। नए साल में गैस कंपनियों (Gas companies) ने घरेलू उपभोक्ताओं को बड़ी राहत दी है। रसोई गैस (cylibders) के दामों में कोई बदलाव नहीं किया गया है। वहीं ग्राहकों को रसोई गैस के दामों पर ही उपलब्ध कराई जाएंगी। इससे देश के सभी घरेलू उपभोक्ताओं को बड़ा लाभ मिलेगा।

दरअसल तेल कंपनियां हर महीने एलपीजी सिलेंडर (LPG Cylinder) के दामों की समीक्षा करती है। वहीं उनके दामों में बदलाव किया जाता है लेकिन नववर्ष के अवसर पर ऑयल मार्केटिंग कंपनियों (OIL Marketing Comapnaies) ने 14.2 किलो के बगैर सब्सिडी (subsidy) वाले एलपीजी गैस सिलेंडर की कीमतों में कोई बदलाव नहीं किया है। वही आईओसीएल (IOCL) की वेबसाइट के मुताबिक दिल्ली में 14.2 किलोग्राम वाली गैस सब्सिडी एलपीजी सिलेंडर के दाम 694 है जबकि मुंबई में 694, चेन्नई में 710 और कोलकाता में सबसे ज्यादा 720.50 रुपए पहले की तरह ही है।

वहीं मध्यप्रदेश (madhya pradesh) में गैस सिलेंडर के दाम औसत 705 रुपए हुए हैं। जिनमें राजधानी भोपाल (bhopal)  में 14.2 किलो एलपीजी सिलेंडर की कीमत लगभग 700 रुपए, इंदौर (indore)  722, जबलपुर (jabalpur) 701 रुपए तय है।

Read More: Jabalpur News : जबलपुर कलेक्टर का एक्शन- लापरवाही पर 3 शिक्षक निलंबित

कमर्शियल गैस सिलेंडर के दामों में इजाफा

हालांकि कमर्शियल गैस सिलेंडर के दामों में इजाफा हुआ है। 19 किलोग्राम वाले गैस सिलेंडर की कीमत राजधानी दिल्ली में 32 रुपए बढ़कर 349 हो गई है। दिल्ली में गैस सिलेंडर का दाम 17 रुपए महंगा हुआ है। वहीं कोलकाता में 22 रुपए, मुंबई में 17 रुपए और चेन्नई में इसकी कीमत 16 रुपए बताई गई है। बता दें कि इससे पहले 2 माह से लगातार रसोई गैस के दामों में वृद्धि हुई है। वही तेल कंपनियां हर महीने सिलेंडर के दामों की समीक्षा करती है और हर राज्य में टैक्स के कारण एलपीजी के दामों में अंतर आता है।

यहां देखें अपने शहरों में गैस के दाम

https://cx.indianoil.in/webcenter/portal/Customer/pages_productprice

बता दें कि केंद्र सरकार घरेलू उपभोक्ताओं को प्रति हर 1 साल में 12 सिलेंडर सब्सिडी पर देती है। 14.2 किलोग्राम के सिलेंडर की कीमत में हर महीने बदलाव किया जाता है। जहां औसत अंतरराष्ट्रीय बेंच मार्क और विदेशी विनियम दरों के कारण इसकी कीमत में बदलाव सुनिश्चित होते हैं। वहीं अगर ग्राहक से ज्यादा सिलेंडर खरीदना चाहे तो उसे बाजार मूल्य पर सिलिंडर खरीदना होता है।