लॉकडाउन के बीच बीजेपी – कांग्रेस का ट्वीट वार

vishvas-sarang-said-he-will-left-politics-if-digvijay-prove-horse-trading

भोपाल।

प्रदेश के कोरोना संकटकाल के बीच हुई सियासत थमने का नाम नहीं ले रही है। प्रदेश में सत्ता से हटने के बाद कॉन्ग्रेस बीजेपी तथा शिवराज सरकार पर लगातार निशाना बनाते रही है। प्रदेश में बढ़ते संक्रमण के बीच कांग्रेस जहां शिवराज सरकार को जिम्मेदार ठहरा रही है वहीं मुख्यमंत्री शिवराज इससे पहले संक्रमण के लिए पूर्व की कांग्रेस सरकार को जिम्मेदार ठहरा चुके हैं। इसी बीच मध्यप्रदेश कांग्रेस ने ट्वीट करके शिवराज सरकार पर निशाना बोला है। तबादले को मुख्य जिम्मेदार मानते हुए प्रदेश कांग्रेस ने शिवराज सरकार पर हमला बोला है।

दरअसल शनिवार को किए गए अपने ट्वीट में मध्य प्रदेश कांग्रेस ने कहा है कि मध्य प्रदेश में कोरोना के बेकाबू होने का कारण यह है कि यहां पर मुख्यमंत्री नए, जिसके साथ मुख्य सचिव, अपर मुख्य सचिव स्वास्थ्य नए, आयुक्त स्वास्थ्य स्वास्थ्य मिशन संचालक नई, स्वास्थ्य मंत्री है ही नहीं, गृह मंत्री हैं ही नहीं, वित्त मंत्री है ही नहीं। और इन सबके नए होने का एक ही कारण है कि सीएम शिवराज ने ट्रांसफर किए हैं।

वही लगातार एक के बाद एक ट्वीट करते हुए मध्य प्रदेश कांग्रेस ने प्रधानमंत्री मोदी पर भी निशाना साधा है। मध्य प्रदेश कांग्रेस ने ट्वीट करते हुए कहा था कि यदि दूरदर्शन महाभारत और रामायण में मजा नहीं आ रहा है तो मोदी जी के 2014 वाले भाषण दिखा दिया जाए। जिसके बाद एक और विवादित पोस्ट करते हुए एमपी कांग्रेस ने कहा कि मोदी जी के 2014 वाले भाषण दिखाने के लिए बोला तो बीजेपी तिलमिला उठी। आखिर ऐसी बतोलेबाजी करते ही क्यों हो कि उसे दिखाने सुनाने में दोबारा डर लगे।

हालांकि यह पहला मौका नहीं है जब एमपी कांग्रेस केंद्र और राज्य सरकार पर निशाना साध रही है। वही अपने एकदम फ्रेश कांग्रेस ने कांग्रेस के बागी विधायकों को निशाना बनाते हुए कहा है कि जनता जवाब मांग रही है, चमचे हिस्सा मांग रहे हैं खुद मंत्री पद मांग रहे हैं शिवराज इंतजार मांग रहे हैं बीजेपी नेता दूरी मांग रहे हैं पड़ोसी बहिष्कार मांग रहे हैं कार्यकर्ता हिसाब मांग रहे हैं किंतु अभी तो लॉकटों है लेकिन जब लॉकडॉन खुलेगा तब क्या होगा? इससे पहले कांग्रेस नेता जीतू पटवारी ने ट्वीट कर कहा था कि आइफा के नाम पर शिवराज सरकार सस्ती लोकप्रियता हासिल करने की कोशिश कर रही है।

वहीं इससे पहले कोरोनावायरस पर नियंत्रण ना कर पाने के लिए शिवराज सिंह चौहान ने तत्कालीन मुख्यमंत्री कमलनाथ को जिम्मेदार ठहराया था। चौहान ने कहा था कि मुख्यमंत्री पद पर आखरी समय तक बने रहने पर जो भी कदम उठाने थे। वह तत्कालिन सरकार द्वारा नहीं उठाया गए थे।