इंदौर।
मध्यप्रदेश के इंदौर में एसटीएफ पुलिस ने शासकीय अधिकारी का वीडियो बनाकर ब्लैकमेल करने वाले भाजपा नेता और एक पत्रकार को गिरफ्तार किया है।आरोप है कि दोनों वीडियो वायरल न करने के एवज में अब तक साढ़े 20 लाख रुपए ले चुके थे, साथ ही और रुपयों की मांग कर रहे हैं।इसकी शिकायत फरियादी अधिकारी ने इंदौर एसटीएफ पुलिस से की थी।पुलिस ने योजना बनाकर आराेपियों को गिरफ्तार कर कोर्ट में पेश किया, जहां से उन्हें जेल भेज दिया गया।

दरअसल, बीते दिनों मंडलेश्वर के भाजपा नेता सुनिल मंडलोई और टीवी पत्रकार दिनेश खेड़े ने इंदौर के वरिष्ठ सहकारिता अधिकारी जगदीश कनोजे और एक महिला का वीडियो बना लिया था और इसे वायरल करने के लिए ब्लैकमेल कर रहा था।इसके एवज में वह अब तक साढ़े 20 लाख रुपए ले चुके था।जब दोनों ने और पैसों की मांग की तो फरियादी अधिकारी ने मामले की शिकायत इंदौर एसटीएफ पुलिस से कर दी। पुलिस ने मामले की जांच के बाद दोनों आरोपियों के खिलाफ धारा 384, 389, 120 बी व 201 में मामला दर्ज किया था। इसके बाद से पुलिस दोनों आरोपियों को तलाश रही थी। पिछले दिनों पुलिस को आरोपी सुनिल के फोन की लोकेशन धामनोद-गुजरी व आसपास के क्षेत्र में लगातार मिली। पुलिस की टीम ने दोनों आरोपियों को मंडलेश्वर के पास रहवासी क्षेत्र पकड़ा। उनके पास से वीडियो बनाने वाला कैमरा, पैनड्राइव सहित कुछ राशि भी जब्त की। आरोपितों को इंदौर न्यायालय में पेश किया गया जहां से इन्हें जिला जेल इंदौर भेज दिया गया है।

कौन है सुनील मंडलोई
भाजपा नेता सुनील मंडलोई 2008 के चुनाव में भगवानपुरा विधानसभा से टिकट की दावेदारी कर चुका है। उसकी पत्नी ज्योति मंडलोई सहित कई आरोपियों पर पूर्व में फैक्ट्री की जमीन की फर्जी रजिस्ट्री कराने, शासकीय राशन गबन करने, मारपीट जैसे मामलों में एफआईआर दर्ज हैं। इन मामलों में भी जेल जा चुके है। कुछ मामले विचाराधीन हैं।