विंध्य प्रदेश की मांग ने पकड़ा जोर, सैंकड़ों गाड़ियों का काफिला लेकर निकले बीजेपी विधायक नारायण त्रिपाठी

मंत्रिमंडल में विंध्य को प्रतिनिधित्व नहीं मिलने की नाराजगी को भुनाते हुए नारायण त्रिपाठी ने पार्टी की नसीहत को दरकिनार करते हुए अलग विंध्य प्रदेश का बिगुल फूंक दिया है| उनकी इस मांग ने सियासत में हलचल मचा दी है|

भोपाल, डेस्क रिपोर्ट| मध्यप्रदेश (Madhyapradesh) में विंध्य को अलग राज्य बनाने की मांग जोर पकड़ने लगी है। मैहर से भाजपा विधायक नारायण त्रिपाठी (Narayan Tripathi) ने इसके लिए एक बड़ा आंदोलन छेड़ने का ऐलान किया है| इसी क्रम में बुधवार को विधायक त्रिपाठी सैंकड़ों कारों का काफिला लेकर सीधी (Sidhi) जिले के चुरहट पहुंचे| नारायण त्रिपाठी पिछले कई दिनों से विंध्य प्रदेश (Vindhyapradesh) बनाये जाने की मांग कर रहे हैं, इसके लिए समर्थन जुटाने विधायक क्षेत्र के अलग अलग जिलों में बैठकें और सभाएं कर आंदोलन को गति देने की कोशिश में है|

कमलनाथ सरकार के दौरान विधानसभा में अपनी ही पार्टी के खिलाफ वोट देकर सुर्ख़ियों में आये मैहर विधायक नारायण त्रिपाठी की नई मांग ने पार्टी की मुश्किलें बढ़ा दी है| पृथक विंध्य प्रदेश की मांग को लेकर विधायक सतना, रीवा और सीधी में जगह-जगह बैठक कर रहे हैं। साथ ही वह जन समर्थन भी जुटाने में लगे हैं। विंध्य में उनकी सक्रियता और आंदोलन पार्टी के अन्य नेताओं को भी रास नहीं आ रहा है, वहीं त्रिपाठी का यह आंदोलन कई नेताओं के लिए भी असमंजस की स्थिति पैदा कर रहा है| इससे पहले त्रिपाठी की मांग का समर्थन गुढ़ से भाजपा विधायक नागेंद्र सिंह भी कर चुके हैं।

मंत्रिमंडल में विंध्य को प्रतिनिधित्व नहीं मिलने की नाराजगी को भुनाते हुए नारायण त्रिपाठी ने पार्टी की नसीहत को दरकिनार करते हुए अलग विंध्य प्रदेश का बिगुल फूंक दिया है| उनकी इस मांग ने सियासत में हलचल मचा दी है| भाजपा के प्रदेश अध्यक्ष वीडी शर्मा ने उन्हें बुलाकर पार्टी लाइन से हटकर कोई बात नहीं करने की हिदायत दी थी। इसके बावजूद भी त्रिपाठी ने अलग विंध्यप्रदेश की मांग को लेकर संघर्ष करने की तैयारी कर ली है। वहीं मौके की तलाश में बैठी कांग्रेस भी त्रिपाठी की मांग पर बीजेपी को कटघरे में खड़ा कर रही है| त्रिपाठी के यह तेवर भाजपा के लिए चिंता का मुद्दा बन गया है| वहीं विंध्य क्षेत्र में उनकी मांग से एक नई सियासी लहर दौड़ पड़ी है|