बुलेट की सवारी, गर्लफ्रेंड पर नोट लुटाना, नशा और अय्याशी के शौक ने बनाया लुटेरा, अब पहुंचे जेल

जिन आरोपियों ने घटना को अंजाम दिया था वह सभी स्थानीय निवासी होकर उन्हें व्यापारी के बारे में पूरी जानकारी थी कि वह किस समय बैंक से रुपए निकालने और जमा करने जाता है।

शिवपुरी, मोनू प्रधान| मंगलवार के दिन कोलारस में दोपहर के समय भारतीय स्टेट बैंक से 18 लाख रुपये निकाल कर दाल मिल पर ले जाते समय दाल मिल संचालक के भतीजे की आंखो में मिर्ची झोंककर अज्ञात बुलेट सवार बदमाशों ने लूट लिया था, दिनदहाडे कस्बे में हुई इस सनसनीखेज घटना को गंभीरता से लेते हुये पुलिस अधीक्षक राजेश सिंह चंदेल द्वारा तत्काल ही संपूर्ण जिले के थानों को पुलिस कण्ट्रोल रूम के माध्यम से अलर्ट कर नाकाबंदी कराई गई एवं स्वंय घटना स्थल पर पहुंचकर घटना का पर्यावक्षेण किया गया।

एसपी के निर्देशन में अति. पुलिस अधीक्षक प्रवीण भूरिया एवं एस.डी.ओ.पी कोलारस अमरनाथ वर्मा व एस.डी.ओ.पी शिवपुरी सुधीर सिंह कुशवाह के मार्गदर्शन में थाना प्रभारी रन्नौद उनि. अनिल रघुवंशी, थाना प्रभारी इंदार उनि. गब्बरसिंह, थाना प्रभारी बदरवास उनि. उमेश उपाध्याय, थाना प्रभारी तेन्दुआ उनि. के.एन. शर्मा को क्रमशः सी.सी.टी.व्ही फुटेज, बदमाशों की जानकारी एवं आसपास के जिलों से बुलेट मोटरसाइकिल संबंधी जानकारी एकत्रित कर आरोपियों की पतारसी हेतु निर्देशित किया गया। घटनास्थल के साक्षियों से पूछताछ में आरोपियों में विशेष समुदाय का व्यक्ति शामिल होने की आशंका होने से उस समुदाय के बीच में अपराधियों के हुलिया एवं घटना में प्रयुक्त बुलेट मोटरसायकल के संबंध में पतारसी हेतु थाना प्रभारी देहात निरी. सुनील खैमरिया एवं थाना प्रभारी सुरवाया उनि. दीप्ती तोमर को लगाया गया था। साथ ही सायवर सहायता एवं आरोपियों की पतारसी हेतु सायवर व ए.डी टीम को भी लगाया गया था। पुलिस अधीक्षक राजेश सिंह चंदेल द्वारा उक्त अपराध में आरोपियों की सूचना व गिरफ्तारी हेतु 10 हजार रुपये का ईनाम घोषित किया गया था।

घटना की गंभीरता को देखते हुये पुलिस महानिरीक्षक ग्वालियर जोन अविनाश शर्मा द्वारा घटना स्थल पर पहुंचकर फरियादी से चर्चा कर कोलारस में बैंक व घटना स्थल का निरीक्षण किया गया तथा आरोपियों की शीघ्र पतारसी हेतु निर्देशित किया गया साथ ही ईनाम वृद्धि हेतु भी निर्देशित किया गया था।

थाना प्रभारी रन्नौद उनि. अनिल रघुवंशी द्वारा सी.सी.टी.व्ही फुटेज के संबंध में जानकारी एकत्रित की गई, एकत्रित जानकारी के आधार पर थाना प्रभारी सुरवाया उनि. दीप्ती तोमर, थाना बैराड में पदस्थ उनि. अरविन्द चैहान एवं थाना प्रभारी कोलारस संजय मिश्रा को घटना के आरोपियों के संबंध में तीन संदिग्धों की जानकारी प्राप्त हुई संदिग्धांे की पतारसी पर घर से गायब होना पाया गया, मुखबिरों से प्राप्त सूचना के आधार पर घटना के तीन संदिग्धों का भेड़ फार्म के पास होने एवं शहर से भागने की तैयारी करने की सूचना पर घेराबंदी कर संदिग्धों को पुलिस अभिरक्षा में लिया गया, उनसे पूछताछ पर उन्होंने अपराध करना स्वीकार किया एवं चौथे आरोपी के संबंध में भी जानकारी दी है, जो अभी भी पुलिस गिरफ्त से फरार है। तीन आरोपियों को गिरफ्तार कर उनके कब्जे से लूटी गई राशि में से 11 लाख 26 हजार रुपये नगद एवं घटना में प्रयुक्त बुलेट मोटरसायकल जप्त की गई है।
आरोपियों की सुरागरसी में टी.आई देहात थाना निरी. सुनील खैमरिया, टी.आई कोलारस निरी. संजय मिश्रा, थाना प्रभारी सुरवाया उनि. दीप्ती तोमर, उनि. अरविंद चैहान की विशेष भूमिका रही एवं आरोपियों की गिरफ्तारी में थाना कोलारस के उनि. पूरन शर्मा, सउनि. अरुण वर्मा, प्रआर रामकुमार सिंह तोमर, संतोष सिंह भदौरिया, नबलसिंह, आरक्षक गुरमीत, गजेन्द्र परिहार, प्रभजोत, नरेश दुबे, ध्रुव दुबे, पुष्पेन्द्र रावत, देशराज राठौर, बलवीर, जितेन्द्र रायपुरिया, दीनू रघुवंशी, धर्मवीर, सायवर सेल एवं ए.डी टीम से उनि. मनीष जादौन, उनि. बृजमोहन रावत, सउनि. वासुदेव रावत, सउनि. प्रवीण त्रिवेदी, प्रआर देवेन्द्र सिंह, उस्मान खांन, आरक्षक चंद्रभान, विकास चैहान, जलज रावत, आलोक शर्मा, देवेन्द्र सेन, अनूप, की विशेष भूमिका रही । पुलिस महा निरीक्षक ग्वालियर जोन द्वारा पुलिस टीम को 30 हजार रुपये के नगद ईनाम से पुरुस्कृत करने की घोषणा की है।

शौक पूरे करने दिया था घटना को अंजाम
आज लूट कांड मामले का खुलासा करते समय पुलिस अधीक्षक राजेश सिंह चंदेल ने बताया कि जिन आरोपियों ने घटना को अंजाम दिया था वह सभी स्थानीय निवासी होकर उन्हें व्यापारी के बारे में पूरी जानकारी थी कि वह किस समय बैंक से रुपए निकालने और जमा करने जाता है। पुलिस अधीक्षक ने बताया कि जो आरोपी पकड़े गए है उन्होंने पूछताछ में बताया है कि उन्होंने अपने महंगी गाड़ी बुलेट खरीदने व गाड़ी की क़िस्त जमा करने, नशे की आदत की पूर्ती करने व गर्लफ्रेंड पर पैसा खर्च करने के साथ साथ अय्याशी के शौक पूरे करने के उद्देश्य से लूट की घटना को अंजाम दिया था।

कोलारस लूट कांड को बरामद करने वालों पुलिसकर्मियों को 51 हजार का नगद पुरस्कार
जिला व्यापार मंडल के अध्यक्ष जितेंद्र जैन गोटू एवं महामंत्री राकेश जैन आमोल ने कहा है कि कोलारस में हुई 18 लाख रुपए की लूट की घटना को लेकर पुलिस एवं अन्य सहयोगियों के द्वारा जिस प्रकार से प्रयास किए जा रहे हैं, उसके कारण से यदि यह लूट कांड का पटाक्षेप होता है तो श्रीराम दाल मिल के संचालक राजमल सिंघल द्वारा 51 हजार रूपए का नगद पुरस्कार दिया जाएगा। आज हुए लूटकांड मामले के खुलासे के समय व्यापारी मण्डल की ओर से महामंत्री राकेश जैन अमोल उपस्थित रहे। श्री जैन ने पुलिस का धन्यबाद ज्ञापित करते हुए कहा कि अच्छे काम के लिए पूरी टीम का सम्मान होना चाहिए, श्री जैन ने कहा कि व्यापारी मण्डल जल्द ही एक सम्मान समारोह का आयोजन करने जा रहा है जिसमे पूरी पुलिस टीम का सम्मान किया जाएगा। यहां बतादें की लूट की घटना के बाद जिलेभर के व्यापारी लामबंद हो गए थे जिन्होंने 5 दिन के भीतर मामला ट्रेस न होने की स्थिति में सभी मंडियों को अनिश्चितकाल को बंद करने की बात पुलिस और प्रशासन से कही थी।

लूट के बाद बोले थे एसपी जल्द गिरफ्त में होंगे आरोपी व राशि भी होगी बरामद
कोलारस में घटित हुई 18 लाख रुपए लूट की इस घटना के बाद पुलिस अधीक्षक राजेश सिंह चंदेल मामले की जानकारी लगते ही मौके पर जा पहुँचे थे। तत्समय पुलिस कप्तान ने मीडिया से चर्चा करते हुए कहा था कि वह जल्द से जल्द आरोपियों को गिरफ्तार कर लूटी गई राशि भी बरामद करेंगे, एसपी श्री चंदेल ने इस घटना को चैलेंज के तौर पर लिया था जिसके परिणामस्वरूप पुलिस ने व्यापारियों द्बारा दिए गए 5 दिन के अल्टीमेटम से पहले ही पुलिस ने आरोपियों को गिरफ्तार कर लिया है। यह बात अलग है कि अभी भी पुलिस गिरफ्त से 1 आरोपी बाहर है जिससे पुलिस को 6 लाख 74 हजार रूपए की राशि भी बरामद करना है। फिलहाल पुलिस ने इस सनसनीखेज मामले का खुलासा करते हुए राहत की सांस ली है।