खण्डवा, सुशील विधानी। जिले की एकमात्र अनारक्षित (सामान्य ) विधानसभा सीट पर चुनावी सरगर्मियों शुरू हो गई हैं। जिले के राजनैतिक इतिहास में पहली बार ऐसा हो रहा है जब एक नेता चिरप्रतिद्वन्दी और एक दूसरे की घोर विरोधी पार्टी से उम्मीदवारी कर रहा है । इस लिहाज से भी मान्धाता सीट पर उपचुनाव दिलचस्प मोड़ ले गया है ।

नारायण पटेल को यहां से कांग्रेस ने बीते विधानसभा चुनाव में मैदान में उतारा वे अपने निकटम प्रतिद्वंदी भाजपा के नरेंद्र तोमर से कांटे की टक्कर में 1236 मतों से विजयी हो कर मध्यप्रदेश विधानसभा पहुचे । हाई लेवल राजनैतिक ड्रामे के चलते प्रदेश में 15 माह चली कमलनाथ सरकार की आखिकार विदाई हो गई । कांग्रेस के कुछ विधायकों ने बीच में ही कांग्रेस को गुडबाय कह विधायक पद से न केवल इस्तीफा दे दिया बल्कि एक कदम आगे जाकर अपनी घोर विरोधी भाजपा का दामन थाम लिया ।

इस घटनाक्रम के अंतिम चरण में मान्धाता सीट से नारायण पटेल ने भी पाला बदलकर यहां उपचुनाव की स्क्रिप्ट लिख डाली ।हालही में मान्धाता विधानसभा क्षेत्र में आयोजित कार्यक्रम में क्षेत्रीय सांसद नंदकुमारसिंह चौहान ने नारायण पटेल को भाजपा का उम्मीदवार बताकर रिलांच कर दिया । अब मजेदार बात यह है कि कथित तौर पर भाजपा को कोसकर श्री पटेल कांग्रेस से विधायक बने अब उपचुनाव में वे पटेल ही कांग्रेस को कोसने की शुरुआत कर भाजपा से विधायक बनने के लिए कवायदें करते दिखाई दे रहे हैं ।