MP Politics: कैबिनेट विस्तार पर जारी है मंथन, 2023 को ध्यान में रख कर हाईकमान करेगा फैसला

बताया जाता है कि मंत्रिमंडल विस्तार को लेकर भोपाल में सहमति न बन पाने पर पार्टी हाईकमान फैसला करेगा। निगम मंडलों में नियुक्तियों को लेकर भी चर्चा शुरू हो गई है।

shivraj singh chouhan

भोपाल, डेस्क रिपोर्ट। लंबे अरसे बाद मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान (Chief Minister Shivraj Singh Chauhan) ने शनिवार को 2 घंटे एकांत में रहकर बहूप्रतीक्षित कैबिनेट विस्तार (Cabinet Expansion) व प्रशासनिक फेरबदल के संबंध में मंथन किया। इसके पहले मुख्यमंत्री ने शुक्रवार की रात संघ के वरिष्ठ नेताओं से बातचीत की थी। जबकि शनिवार सुबह मुख्य सचिव इकबाल सिंह बैंस व डीजीपी विवेक जौहरी से बात कि। इससे इस बात की संभावना बढ़ गई है कि कैबिनेट विस्तार के साथ ही बहु प्रतिक्षित प्रशासनिक फेरबदल भी जल्द हो सकता है।

मंत्रिमंडल विस्तार की सरगर्मियां तेज

भाजपा सांसद व पूर्व केंद्रीय मंत्री ज्योतिरादित्य सिंधिया (Former Central Minister Jyotiraditya Scindia) की भोपाल यात्रा और संघ के नेताओं तथा प्रदेश भाजपा अध्यक्ष वीडी शर्मा (State BJP President VD Sharma) से चर्चा के बाद मंत्रिमंडल विस्तार व निगम मंडलों (Nigam Mandal) में नियुक्तियों की चर्चा तेज हो गई है। हालांकि सिंधिया और मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान की अभी मुलाकात नहीं हुई, लेकिन इन दोनों नेताओं के बीच जल्द ही चर्चा होने की संभावना है।

सिंधिया चाहते है उनके और दो मंत्री

गौरतलब है कि उपचुनाव में तीन मंत्रियों इमरती देवी (Imarati Devi), एंदल सिंह कंसाना (Endal Singh Manaana) और गिर्राज दंडोतिया (Girraj Dandotiya) हार गए हैं। इस कारण मंत्रिमंडल में 3 पद रिक्त हो गए हैं। इन पदों को भरने के लिए मुख्यमंत्री व भाजपा को काफी मशक्कत करनी पड़ रही है। सिंधिया चाहते हैं कि चुनाव हारने वाले उनके दो कट्टर समर्थक – इमरती देवी व गिर्राज दंडोतिया को निगम मंडल में जगह दी जाए, साथ ही मंत्रिमंडल विस्तार में गोविंद सिंह राजपूत व तुलसी सिलावट के अलावा उनके दो नए समर्थकों को मौका दिया जाए। इमरती देवी के इस्तीफे देने के बाद ग्वालियर चंबल संभाग से दलित वर्ग का कोई मंत्री नहीं रहेगा। जबकि वहां इनकी संख्या बहुत अधिक है।

Read More: जल्द गठित होगी प्रदेश बीजेपी की नई टीम, हाईकमान के निर्देश से बढ़ सकती है वरिष्ठों में नाराजगी

2023 को रखना है ध्यान में

उधर मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान, प्रदेश भाजपा अध्यक्ष वीडी शर्मा व संगठन मंत्री सुभाष भगत चाहते हैं की 2023 को ध्यान में रखकर पार्टी के वरिष्ठ लोगों को क्षेत्रीय जाति संतुलन के हिसाब से मंत्रिमंडल में मौका दिया जाए। इसमें राजेंद्र शुक्ला, अजय विश्नोई, रामपाल सिंह, संजय पाठक, गौरी गौरीशंकर बिसेन का नाम है।

हाईकमान करेगा फैसला

बताया जाता है कि मंत्रिमंडल विस्तार को लेकर भोपाल में सहमति न बन पाने पर पार्टी हाईकमान फैसला करेगा। निगम मंडलों में नियुक्तियों को लेकर भी चर्चा शुरू हो गई है। इमरती देवी, एंदल सिंह कंसाना और गिर्राज दंडोतिया के अलावा कुछ अन्य लोगों को निगम मंडल में ऐड किया जा सकता है। कुछ विधायकों को जिला सहकारी बैंकों की जिम्मेदारी सौंपने की तैयारी है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here