मंत्रिमंडल विस्तार की सुगबुगाहट तेज, सोमवार को दिल्ली जा सकते है शिवराज

भोपाल।

आज तीन मई को लॉक डाउन(lockdown) की समय सीमा खत्म होते ही प्रदेश में शिवराज मंत्रिमंडल( (shivraj cabinet)) की अटकलें तेज हो चली है। खबर है कि राज्यपाल लाल जी टंडन(Governor Lalji Tondan) से मुलाकात के बाद मुख्यमंत्री शिवराज (cm shivraj) सोमवार को दिल्ली(delhi) जा सकते है। यहां वे हाईकमान से चर्चा के बाद मंत्रिमंडल का बड़े स्तर पर विस्तार (cabinet expansion)कर सकते है, सूत्रों से मिली जानकारी के मुताबिक 6 मई को 22 नए मंत्री शपथ ले सकते हैं।वही कई पूर्व मंत्रियों की छुट्टी होना भी तय माना जा रहा है।

शिवराज सिंह चौहान ने 23 मार्च को मुख्यमंत्री पद की शपथ ली थी। करीब 28 दिन बाद 21 अप्रैल को मंत्रिमंडल का गठन किया गया। इसमें दो मंत्री सिंधिया खेमे और तीन भाजपा विधायकों को मंत्री बनाया गया। तब मुख्यमंत्री ने कहा था कि लॉकडाउन खत्म होने के बाद कैबिनेट का विस्तार होगा। आज लॉक डाउन की सीमा समाप्त हो रही है, हालांकि रेड जोन में दो हफ्ते और लॉक डाउन जारी रहेगा। इसे देखते हुए मंत्रिमंडल में नए सदस्यों को शामिल किए जाने को लेकर गहमागहमी तेज हो गई है।हाल ही में शुक्रवार को राज्यपाल लालजी टंडन से मुलाकात के बाद इन अटकलों ने और जोर पकड़ लिया है। बताया जा रहा है कि दोनों के बीच मंत्रिमंडल विस्तार को लेकर चर्चा हुई। सुत्रों की माने तो 6 मई को बड़े स्तर पर शिवराज कैबिनेट का विस्तार हो सकता है। 4 मई को दिल्ली जा सकते है और वहां हाईकमान और सिंधिया से चर्चा के बाद मंत्रिमंडल विस्तार किया जा सकता है, क्योंकि कई वरिष्ठ नेताओं को अभी इस मंत्रिमंडल में जगह नहीं मिली है।

सिंधिया समर्थकों में इनका मंत्री बनना तय
मंत्रिमंडल विस्तार में माधवराव सिंधिया के समर्थक 8-10 विधायकों को मंत्री बनाया जा सकता है। सिंधिया गुट के तुलसी सिलावट और गोविंद सिंह राजपूत पहले से ही कैबिनेट के सदस्य हैं। नए मंत्रियों में इमरती देवी, प्रद्युम्न सिंह तोमर, महेंद्र सिंह सिसोदिया और प्रभु राम चौधरी का नाम लगभग तय है। इसके अलावा हरदीप सिंह डंग, एंदल सिंह कंसाना और विसाहू लाल सिंह भी मंत्री पद की शपथ ले सकते हैं।

भाजपा से इन नामों पर चर्चा
भाजपा से मंत्रिमंडल में शामिल होने वाले जिन नामों पर चर्चा चल रही है, उनमें भूपेंद्र सिंह, गोपाल भार्गव, रामपाल सिंह, अजय विश्नोई, गौरीशंकर बिसेन, संजय पाठक, विश्वास सारंग, अरविंद भदौरिया, ओमप्रकाश सकलेचा, जगदीश देवड़ा, यशपाल सिंह सिसोदिया, हरिशंकर खटीक, प्रदीप लारिया, पारस जैन, रमेश मेंदोला, केदारनाथ शुक्ला, गिरीश गौतम, नीना वर्मा, मोहन यादव संजय पाठक, बिसाहू लाल सिंह, राम लल्लू वैश्य, जालम सिंह पटेल, करण सिंह वर्मा , गायत्री राजे पंवार, यशपाल सिंह सिसौदियामालिनी गौड़, गोपीलाल जाटव, मोहन यादव और सुरेंद्र पटवा के नाम शामिल हैं।

इनकी होगी छुट्टी
वही चर्चा इस बात की भी है कि पूर्व मंत्री विजय शाह और यशोधरा राजे सिंधिया की छुट्टी हो सकती है, वहीं समर्थन देने वाले निर्दलीय को जगह नही दी जाएगी। इधर, विधानसभा अध्यक्ष के लिए जगदीश देवड़ा सीताचरण शर्मा और गोपाल भार्गव का नाम भी चर्चा में बना हुआ है।

बता दे कि 230 सदस्यीय विधानसभा में सदस्यों की संख्या के लिहाज से मंत्रिमंडल में 15 फीसदी यानी 35 सदस्य ही हो सकते हैं, जिनमें मुख्यमंत्री भी शामिल हैं। शिवराज समेत अब कैबिनेट में 6 सदस्य हैं। 28 विधायकों को बाद में मंत्री बनाया जा सकता है। फिलहाल मंत्रिमंडल में पांच कैबिनेट मंत्री है।