कैबिनेट मंत्री ने बताया ऐसे उतारे कमलनाथ MP का कर्ज, सिंधिया को लेकर कही ये बात

pwd-minister-said-congress-failed-to-explain-its-point-of-view

भोपाल।
एमपी (madhypradesh) में राज्यसभा चुनाव(rajsabha election) से पहले कांग्रेस(congress) मे जमकर घमासान मचा हुआ है। राज्यसभा जाने के लिए दावेदारी एड़ी से चोटी तक का जोर लगा रहे है। वही कांग्रेस के दिग्गज नेता ज्योतिरादित्य सिंधिया(jyotiraditya sindia) और पूर्व मुख्यमंत्री दिग्विजय(digvijay singh) के राज्यसभा जाने की अटकलों के बीच कमलनाथ सरकार में कैबिनेट मंत्री(cabinet minister) सज्जन सिंह वर्मा(sajjan singh varma) ने एक बार फिर प्रियंका गांधी वाड्रा (priyanka gandhi)को मप्र से राज्यसभा में भेजने मांग उठाई है।यह पहला मौका नही है इससे पहले भी सज्जन खुलकर प्रियंका का समर्थन कर चुके है।

दरअसल, मीडिया से चर्चा के दौरान सज्जन ने कहा कि इंदिरा गांधी जी(indira gandhi) ने कमलनाथ (kamalnath) की उंगली पकड़ कर छिंदवाड़ा से लोकसभा का चुनाव लड़वाया था। अब वक्त आ गया है, प्रियंका को लाकर वो कर्ज उतारा जाए। प्रिंयका में इंदिरा गांधी की छवि दिखती है। प्रियंका के आने से प्रदेश में कांग्रेस और मजबूत होगी। इससे पहले भी सज्जन इस मांग को उठा चुके है। बीते दिनों उन्होंने कहा था कि मप्र में अनुसूचित जाति-जनजाति का बाहुल्य है और यह वर्ग हमेशा गांधी परिवार (gandhi family)की पसंद रहा है। इसलिए प्रियंका को यहीं से राज्यसभा में भेजा जाना चाहिए। वर्मा ने कहा कि एक बात यह भी है कि इंदिरा गांधी कमलनाथ को छिंदवाड़ा लेकर आई थी, अब कमलनाथ मुख्यमंत्री (cm kamalnath)हैं तो उन्हें प्रियंका को मध्यप्रदेश लाना चाहिए। इससे प्रदेश की जनता की ताकत बढ़ेगी।

सिंधिया और पीसीसी चीफ को लेकर कही ये बात
सिंधिया-नाथ की तरकार को लेकर सज्जन ने कहा कि कमलनाथ सरकार पर जनता का विश्वास बना हुआ है। सिंधिया को कमलनाथ ने समझा दिया है कि पांच साल में वचन पत्र का एक-एक वादा पूरा किया जाएगा। सरकार के साथ कंधे से कंधा मिलाकर चलाे, कई काम आपके हाथ से ही करवाएंगे, जिससे कांग्रेस पर जनता विश्वास और बढ़े।वही पीसीसी चीफ को लेकर कहा कि कार्यकर्ताओं तक पहुंचने के लिए एक नए अध्यक्ष की जरूरत शिद्दत से महसूस की जा रही है। हाईकमान से गुजारिश करता हूं कि इस पर जल्द निर्णय लें और ऐसे व्यक्ति को जिम्मेदारी दें, जो सरकार और संगठन के बीच तालमेल बिठाकर चले।