मध्यप्रदेश में बंद हुआ जनगणना का काम, अब 2022 में आएंगे आंकड़े

भोपाल, डेस्क रिपोर्ट 

मध्यप्रदेश (Madhya Pradesh) में बढ़ते कोरोना संक्रमण (Corona Infection) के चलते जनगणना (Census) का काम बंद कर दिया गया है। जिसके चलते अब प्रशासनिक क्षेत्राधिकार फ्रीज कर दिए गए है। प्रदेश में अब प्रशासनिक क्षेत्राधिकार 31 दिसंबर 2020 तक पूरी तरफ फ़्रिज रहेंगे इससे पहले फ्रीज करने की आखिरी तारीख 31 दिसंबर 2019 थी।

क्षेत्राधिकार फ्रीज होने होने के बाद अब राज्य सरकार 31 दिसंबर 2020 तक राज्य में किसी भी नए जिला, तहसील, नगर पालिका, ग्राम पंचायत या नए वार्ड का गठन नहीं कर सकेगी और न ही पहले से मौजूद किसी भी प्रशासनिक व्यवस्था को खत्म कर सकेगी। जब तक जनगणना की प्रक्रिया खत्म नहीं हो जाती है तब तक यह लागू रहेगा

मध्यप्रदेश में 1 मई से हाउस-लिस्टिंग में मकानों के डोर-टू-डोर सर्वे और एनपीआर यानी नेशनल पॉपुलेशन रजिस्टर के लिए डाटा कलेक्शन किया जाना था, जो 14 जून तक जारी रहता। लेकिन अब कोरोना लॉकडाउन के चलते इसे बंद कर दिया गया है।बता दें कि 2011 की जनगणना के हिसाब से मध्यप्रदेश की कुल जनसंख्या 72,59,765 है. इनमें राजधानी भोपाल की कुल जनसंख्या 23,71,061 थी.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here