Corona Vaccination के ट्रायल रन को लेकर सीएम शिवराज ने कही ये बात

सीएम शिवराज सिंह चौहान (CM Shivraj Singh Chauhan) ने कहा कि इसके लिए हमारी तैयारी पूरी है। वैक्सीनेशन ट्रायल रन के लिए भारत सरकार से चर्चा करके जो कदम उठाने थे ट्रेनिंग से लेकर कोल्ड स्टोरेज तक के सारे के सारे कदम हमने उठा लिए है और जैसे ही हरी झंडी मिलेगी वैसे ही ट्रायल शुरु कर दिया जाएगा।

वैक्सीन

भोपाल,डेस्क रिपोर्ट। कोरोना वायरस महामारी (Corona virus epidemic) पर ब्रेक लगाने के लिए वैक्सीनेशन का ट्रायल रन (Vaccination trial run) शुरु होने वाला है। भोपाल में 3 स्थानों को वैक्सीनेशन के लिए चुना गया है, ये शहर के गांधीनगर का उप स्वास्थ्य केंद्र, गोविंदपुरा आरोग्य केंद्र और एलएन मेडिकल कॉलेज है। वहीं वैक्सीनेशन ट्रायल रन के लिए जेपी अस्पताल की भी अधिकारियों द्वारा समीक्षा की गई।

अधिकारियों का कहना है कि वैक्सीनेशन के ट्रायल रन(Vaccination trial run) के लिए आने वाली समस्याओं को देखते हुए और उन्हे दूर करने के लिए शहर के तीन अलग छोर के केंद्रों को चिन्हित किया गया है। वहीं वैक्सीनेशन ट्रायल रन (Vaccination trial run) को लेकर सीएम शिवराज सिंह चौहान (CM Shivraj Singh Chauhan) ने कहा कि इसके लिए हमारी तैयारी पूरी है। वैक्सीनेशन ट्रायल रन के लिए भारत सरकार से चर्चा करके जो कदम उठाने थे ट्रेनिंग से लेकर, कोल्ड स्टोरेज तक के सारे के सारे कदम हमने उठा लिए है और जैसे ही हरी झंडी मिलेगी वैसे ही ट्रायल शुरु कर दिया जाएगा।

बता दें कि सुबह 8 बजे से डमी वैक्सीन (Dummy vaccine) जेपी अस्पताल से चुने गए केंद्रों के लिए भेजी जाएगी और वैक्सीनेशन 9 बजे से शुरु हो जाएगा। 25-25 लोगों की टीम बनाई गई है जो वैक्सीनेशन केंद्र पर मौजूद रहेगी। इन 25 लोगों की टीम में 5 डॉक्टरों और हेल्थ वर्कर्स को रखा गया है। वहीं भीड़ को संभालने के लिए भी स्वास्थ्य केंद्रों पर पूरी व्यवस्था की जाएगी। गौरतलब है कि डीप फ्रीजर जो कि कोरोना के वैक्सीन को स्टोर करेगी वो अभी तक हॉस्पिटल में नहीं है। वहीं वैक्सीन के ट्रायल रन को लेकर जिला कलेक्टर अविनाश लवानिया (Collector Avinash Lavania) ने कहा कि वैक्सीनेशन के लिए किसी को भी मैसेज देकर नहीं बुलाया गया है। इस ट्रायल रन को करने के पिछे मक्सद सिर्फ विभाग की व्यवस्थाओं को देखना है। जिससे अगर कोई कमी सामने आती है तो उसे वक्त रहते पूरा कर लिया जाए। बता दें कि मध्यप्रदेश से पहले देश के 4 राज्यों में वैक्सीनेशन ट्रायल रन शुरु हो चुका है।

बता दें कि एक कोविन एप को तैयार किया गया है जिसमें उन लोगों की जानकारी दर्ज होगी जिनको वैक्सीन लगना है। वहीं केंद्रों पर वैक्सीनेशन का ट्रायल रन 5 स्टेप में होगा। वहीं वैक्सीनेशन के लिए लोगों को मैसज कर उनके वैक्सीनेशन (Vaccination) के समय के बारे में बताया जाएगा। केंद्र पर पहुंचे पर वैक्सीन लगने वाले उम्मीदवारों का पहले तापमान चेक किया जाएगा। तापमान चेक (Temperature Check) करने के बाद उनकी बारी आने तक उन्हें वेटिंग रूम में बैठाया जाएगा। जिसके बाद उनका वैक्सीनेशन किया जाएगा। वहीं वैक्सीन लगने के बाद उन्हे 30 मिनट तक रुका कर उनका दोबारा टेंपरेचर चेक किया जाएगा।