भोपाल कलेक्टर

भोपाल, डेस्क रिपोर्ट। मध्य प्रदेश(madhya pradesh) की राजधानी में लगातार सरकारी जमीन पर अतिक्रमण किया जा रहा है। वहीं अवैध(illegal) तरीके से सरकारी जमीन पर निर्माण कार्य जारी है। जिसको देखते हुए राजधानी भोपाल के कलेक्टर अविनाश लवानिया (Collector Avinash Lavania) ने कड़ा रुख अख्तियार किया है। कलेक्टर अविनाश लवानिया(Avinash Lavania) ने यह निर्देश दिए हैं कि सरकारी जमीन पर कोई भी निर्माण कार्य हो रहा हो तो उसे तत्काल रोके। उन्होंने कहा है कि कि अगर तहसीलदार के क्षेत्र में अतिक्रमण होता है तो तहसीलदार पर सख्त कार्रवाई की जाएगी।

दरअसल शुक्रवार को राजधानी भोपाल के अतिक्रमण क्षेत्र को लेकर बैठक करते हुए कलेक्टर अविनाश लवानिया ने कहा है कि अतिक्रमण की रिपोर्ट क्षेत्र के एसडीएम(SDM) को देना होगा। वहीं उन्होंने जिला प्रशासन के अधिकारियों को निर्देश दिए हैं कि अपने अपने क्षेत्र की रिपोर्ट बनाएं। कलेक्टर अविनाश लवानिया(Avinash Lavania) ने कहा कि हाल ही में सरकारी जमीन पर से अतिक्रमण कर बनाए गए ढाबे तोड़े गए हैं। उन्होंने तहसीलदारों को स्पष्ट निर्देश दिए हैं क्षेत्रों पर नजर बनाए रखें और अतिक्रमण को फौरन हटाया जाए। साथ ही एसडीएम को निर्देश देते हुए कलेक्टर अविनाश लवानिया ने कहा कि इस मुद्दे पर लापरवाही कतई बर्दाश्त नहीं की जाएगी एवं लापरवाही मिलने पर सख्त कार्रवाई भी की जाएगी।

वहीं कलेक्टर ने अधिकारियों को निर्देश दिए हैं कि सरकारी स्कूल के आसपास भी लोग अतिक्रमण कर लेते हैं। जिससे अधिकारियों को सरकारी स्कूलों का भी दौरा करना होगा और सड़क किनारे की सरकारी जमीन पर होने वाले अतिक्रमण को हटाना होगा।

Read this: आगामी त्योहारों को लेकर शांति समिति की बैठक, कलेक्टर ने दिए दिशानिर्देश

बता दें कि इससे पहले सितंबर में जिला प्रशासन ने बड़ी कार्रवाई करते हुए करीबन 5 करोड़ कीमत की सरकारी जमीन से अतिक्रमण को हटाया था। आरोपी अलीम खान कई सालों से सरकारी जमीन पर कब्जा कर ढ़ावा चला रहे थे। जिसके बाद जिला प्रशासन ने एक्शन लेते हुए उससे अधिक्रमित जमीन को खाली कराया था।

बता दे कि भू-माफियाओं के खिलाफ मध्य प्रदेश सरकार मुहिम चला रही है। जिसमें मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान (chiefminister shivraj singh chauhan) के निर्देशों का पालन करते हुए जिला प्रशासन कड़ी कार्रवाई कर रहा है। वही सरकारी जमीन पर किए गए अवैध कब्जे को हटाया भी जा रहा है। जिसके लिए अब कलेक्टर अविनाश लावण्या ने अधिकारियों को स्पष्ट निर्देश दिए हैं।