निष्कासन के बाद बोले कांग्रेस नेता- पार्टी को खत्म करना चाहते है जिलाध्यक्ष

विवेक ने गंभीर आरोप लगाए कि देवेंद्र शर्मा और सुनील शर्मा "महाराज" के एजेंट की तरह काम कर रहे हैं। जिलाअध्यक्ष तो कांग्रेस को खत्म करना चाहते हैं।

कांग

ग्वालियर, अतुल सक्सेना। विधानसभा उपचुनाव (Assembly By Election) में ग्वालियर जिले की ग्वालियर विधानसभा में भाजपा (BJP) के पक्ष में काम करने को अनुशासनहीनता मानते हुए मप्र कांग्रेस कमेटी (MP Congress Committee) ने ब्लाॅक कांग्रेस कमेटी 2 (Block Congress Committee 2)के अध्यक्ष विवेक तोमर और कांग्रेस के पुराने कार्यकर्ता अनूप तिवारी को पार्टी से निष्काषित कर दिया गया है। उधर अपने निष्कासन को दुर्भावना से की गई कार्रवाई बताते हुए विवेक तोमर और अनूप तिवारी ने जिलाध्यक्ष  डाॅ देवेन्द्र शर्मा (Dr Devendr Sharma ) पर गंभीर आरोप लगाए। नेताओं ने कहा कि जिला अध्यक्ष डॉ देवेंद्र शर्मा (Dr Devendr Sharma) पार्टी को जिले से खत्म करना चाहते हैं। उनके साथ वही कार्यकर्ता काम कर सकता है जो उनकी व्यक्तिगत सेवा कर सकते हैं। नेताओं ने आरोप लगाए कि निष्कासन से पहले ना उनकी बात सुनी गई ना कोई नोटिस दिया गया।

शहर जिला कांग्रेस कमेटी के अध्यक्ष डाॅ देवेन्द्र शर्मा (Dr Devendr Sharma )के मुताबिक मप्र कांग्रेस कमेटी के अध्यक्ष कमलनाथ के आदेश पर प्रदेष संगठन प्रभारी एवं उपाध्यक्ष चंन्द्रप्रभाष शेखर ने पार्टी गतिविधियों एवं रीति नीति के खिलाफ कार्य करने में दोषी पाए गए विवेक तोमर को ब्लाॅक अध्यक्ष पद से हटाते हुए निष्काषित कर दिया है इसके साथ ही अनूप तिवारी को भी निष्काषित किया गया है जो पार्टी में रहकर भाजपा की बात करेगा उसे पार्टी से निष्काषित कर दिया जाएगा। जिला अध्यक्ष डाॅ देवेन्द्र शर्मा (Dr Devendr Sharma )ने कहा कि कांग्रेस में अनुशासन सर्वोपरी है । पार्टी में रहकर भाजपा व अन्य दलों की बात करना, चुनाव के समय पार्टी प्रत्याशियों के खिलाफ प्रचार करना बर्दाश्त नहीं किया जाएगा।

कार्यकर्ता को नींबू की तरह निचोड़ कर फेंक देते हैं जिला अध्यक्ष: अनूप तिवारी

निष्कासित होने के बाद कांग्रेस के पुराने कार्यकर्ता और कभी कट्टर सिंधिया समर्थक रहे अनूप तिवारी ने जिला अध्यक्ष डॉ देवेंद्र शर्मा (Dr Devendr Sharma) पर गंभीर आरोप लगाए। उन्होंने एमपी ब्रेकिंग न्यूज़ से बात करते हुए कहा कि मैं कांग्रेस का सिपाही हूँ और जीवन भी रहूँगा। मुझे दुर्भावनापूर्वक हटाया गया है क्योंकि मैंने अध्यक्ष जी के व्यक्तिगत सेवा नहीं की। वे कार्यकर्ता को नींबू की तरफ निचोड़ कर फेंक देते हैं। अनूप तिवारी ने कहा कि जिस दिन से देवेंद्र शर्मा अध्यक्ष बने हैं भाजपा के विरोध में एक भी कार्यक्रम नहीं किया जो कार्यक्रम प्रदेश से मिले वो किया। मुझे भले ही पार्टी से अलग कर दिया है लेकिन मेरी निष्ठा कांग्रेस में थी और रहेगी।

“महाराज” के एजेंट हैं देवेंद्र शर्मा और सुनील शर्मा: विवेक तोमर

पार्टी से निष्कासित किये गए ब्लॉक कांग्रेस कमेटी 2 के अध्यक्ष विवेक तोमर ने एमपी ब्रेकिंग न्यूज़ से कहा कि मैं जब से ब्लॉक अध्यक्ष बना हूँ तभी से प्रदेश सचिव एवं ग्वालियर विधानसभा से प्रत्याशी रहे सुनील शर्मा (Sunil Sharma)मेरा विरोध कर रहे हैं। वे अपनी हार का ठीकरा मुझ पर फोड़ रहे हैं। यदि मैं उन्हे 34,000 से हरवाने की ताकत रखता हूँ तो पार्टी फिर मुझे टिकट देती। विवेक ने कहा कि सुनील शर्मा (Sunil Sharma)अपने कर्म से हारे, उन्होंने कभी ज्योतिरादित्य सिंधिया के खिलाफ कुछ नहीं बोला। मुझे लगता है वो प्रत्याशी ही गड़बड़ थे, भाजपा से मिले थे। जैसा प्रचार उन्हें करना चाहिए था नहीं किया। उन्होंने तो अपने “महाराज” को 34 हजार वोटो से हारकर गुरु दक्षिणा दी हैं। विवेक ने गंभीर आरोप लगाए कि देवेंद्र शर्मा और सुनील शर्मा “महाराज” के एजेंट की तरह काम कर रहे हैं। जिलाअध्यक्ष तो कांग्रेस को खत्म करना चाहते हैं। विवेक ने कहा कि मुझे आज तक निष्कासन पत्र नहीं मिला ना कार्रवाई से पहले कोई नोटिस दिया। पूरी तरह से एकतरफा कार्रवाई की गई है।

गौरतलब है कि ब्लॉक अध्यक्ष विवेक तोमर ऊर्जा मंत्री प्रद्युम्न सिंह तोमर (Pradyuman Singh Tomar) समर्थक थे। वे लंबे समय से कांग्रेस के लिए काम कर रहे हैं लेकिन जब प्रद्युम्न ने कांग्रेस छोड़ी तो विवेक तोमर ने पार्टी के प्रति निष्ठा दिखाते हुए कांग्रेस नहीं छोड़ी। ऐसे ही अनूप तिवारी भी कभी कट्टर सिंधिया समर्थक रहे लेकिन ज्योतिरादित्य सिंधिया के कांग्रेस छोड़ने के बाद भी कांग्रेस नहीं छोड़ी। अब इनके निष्कासन के बाद शहर एम चर्चा हो रही है कि यदि ऐसे ही निष्ठावान कार्यकर्ता पार्टी से बाहर किये जायेंगे तो पार्टी कैसे चलेगी।

MP Breaking News

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here