कांग्रेस MLA ने कर्मचारियों को दिखाया लाल डायरी का डर, BJP बोली- यह तो चुनाव आयोग को धमकी

कुणाल चौधरी ने कहा कि ऐसे अधिकारियों के नाम लाल डायरी में लिखा जा रहा है जो वर्दी पहनकर भाजपा के एजेंट के रूप में काम कर रहे है

भोपाल, डेस्क रिपोर्ट। कमलनाथ (kamalnath) के द्वारा मध्य प्रदेश (MP) के लोकायुक्त को लेकर की गई टिप्पणी को लेकर अब बीजेपी मुखर हो गई है। दरअसल पृथ्वीपुर की चुनावी सभा में कमलनाथ ने कहा था कि जब हम सरकार में आएंगे तो असली लोकायुक्त बनाएंगे ।इस जैसा नकली लोकायुक्त नहीं। इसके बाद प्रदेश के गृह एवं जेल मंत्री डॉ नरोत्तम मिश्रा ने सोमवार की सुबह इस बात का खुलासा किया था कि लोकायुक्त के खिलाफ कमलनाथ की टिप्पणी इस वजह से है क्योंकि राज्यपाल को सौंपे गए वार्षिक प्रतिवेदन में लोकायुक्त ने कमलनाथ की कांग्रेस सरकार की अनियमितताओं के खिलाफ काफी कुछ लिखा है।

जिसपर अब कालापीपल से कांगेस विधायक कुणाल चौधरी (kunal choudhary) ने टिप्पणी की है, कुणाल चौधरी ने कहा कि ऐसे अधिकारियों के नाम लाल डायरी में लिखा जा रहा है जो वर्दी पहनकर भाजपा के एजेंट के रूप में काम कर रहे है, याद रखे कि सरकारें बदलती रहती है संविधान के दायरे में काम करोगे तो फायदे में रहोगे।

Read More: MP Panchayat Election: तैयारियां तेज, मतदान केंद्रों को लेकर आयोग ने अधिकारियों को दिए निर्देश

अब इसपर भाजपा प्रवक्ता दुर्गेश केसवानी ने कहा कि आज कांग्रेस के नेता खिसियानी बिल्ली खंबा नोचे की स्थिति में है।, उनके एक विधायक बता रहे हैं कि कांग्रेस की सरकार कार्यकर्ताओं की सरकार होती है। अरे विधायक जी अगर कांग्रेस की सरकार कार्यकर्ताओं की सरकार होती या फिर कांग्रेस के नेताओं की सरकार होती या तो विधायकों की सरकार होती तो आप ही के लोग कमलनाथ जी को चलो चलो नहीं कर देते, और आप मंच से यह भी हवाला दे रहे हैं की अधिकारी कर्मचारियों के नाम आप लाल डायरी में लिख रहे हैं?

मैं आपको बता दूं कमलनाथ जी लोकायुक्त को नकली होने की बात कर रहे हैं और आप 2 कदम आगे निकल कर,अधिकारी कर्मचारियों को लाल डायरी का हवाला दे रहे हैं। जहां-जहां चुनाव होते हैं वह आदर्श चुनाव आचार संहिता लागू होती है। चुनाव आयोग के मार्गदर्शन में ही अधिकारी कर्मचारी चुनाव आयोग के दिशा निर्देश का पालन कर निष्पक्ष चुनाव कराते हैं। कहीं ऐसा तो नहीं है आप चुनाव आयोग को ही कटघरे में खड़ा कर रहे हैं? काँग्रेस के आदत के अनुरूप संवैधानिक संस्था पर प्रशन चिन्ह लगा रहे है।