MP Politics: भाजपा की राजनैतिक स्थिति की आशंका से उपचुनाव टालने की साज़िश

OBC Reservation

भोपाल।

शिवराज कैबिनेट विस्तार (Shivraj cabinet expansion) के बाद और उपचुनाव (by election) से पहले एमपी(mp) का सियासी पारा हाई है। राजनैतिक पार्टियों के बीच बयानबाजी का दौर तेजी से चल रहा है। मुद्दा कोई भी हो दोनों ही मुख्य दल एक दूसरे की जमकर घेराबंदी कर रहे है।खास करके उन मुद्दों को भुनाया जा रहा है, जिन्हें उपचुनाव के दौरान जनता के बीच लेकर पहुंचना है।अब कांग्रेस के कद्दावर नेता केके मिश्रा(congress leader k.k mishra) ने बीजेपी(bjp) द्वारा साजिश के तहत उपचुनाव टालने की बात कही है।

मिश्रा ने इसको लेकर एक ट्वीट भी किया है। जिसमें मिश्रा ने लिखा है कि ”भाजपा की जर्जर राजनैतिक स्थिति की आशंका से उपचुनाव टालने की साज़िश, CM के कथनानुसार एक्टिव पॉजेटिव रोगी संख्या में प्रदेश दूसरे से 15 वें क्रम पर,रिकवरी रेट 76.9 तो सिर्फ ग्वालियर,मुरैना ही संक्रमित क्यों?मैं तो यहीं हूँ, आंकड़े फर्जी!डर पराजय से,कोरोना से नहीं!”यह पहला मौका नही है जब मिश्रा ने शिवराज सरकार को घेरा हो, इसके पहले भी वो ट्वीटर और अपने तीखें बयानों से महाराज की जमकर घेराबंदी कर चुके है। खास बात ये है कि मिश्रा ग्वालियर के चुनाव प्रभारी भी है।

बता दे कि सरकार की तरफ से दावा किया गया है कि मध्यप्रदेश एक्टिव प्रकरणों के लिहाज से शुरूआत में देश में दूसरे क्रम पर था। सघन प्रयासों से स्थिति में इतना सुधार हुआ है कि मध्य प्रदेश अब 15वें क्रम पर है। प्रदेश का रिकवरी रेट 76.9 प्रतिशत रहा है।