सीहोर, अनुराग शर्मा 

गणेशोत्सव के किए गणेश जी की मूर्तियां थी तैयार पर कोई बुकिंग नही होने से मूर्तिकारों में  निराशा फैल रही है। जिला प्रशासन ने छोटी मूर्ति बेचने की अनुमति तो दी लेकिन बड़ी-बड़ी मूर्तियां बेचने से साफ इनकार किया। मूर्तिकार साल भर मूर्तियां बनाते हैं और घर की आजीविका भी इसी से चलती है।

इस बार उन्हें भारी नुकसान, हो रहा हैं। खाने के लाले, मूर्तिकारों ने शासन प्रशासन को भी अवगत किया। लेकिन कहीं से भी सहयोग नहीं मिल पा रही है। इस पूरे मामले में मूर्ति कारों का कहना है कि हम 6 महीने पहले से ही मूर्ति का निर्माण करना चालू कर देते हैं। इस बार भी हमने बड़ी-बड़ी मूर्तियां बनाई। लेकिन जिला प्रशासन को प्रशासन द्वारा निर्देश दिए गए कि इस बार कहीं भी पांडाल नहीं लगेंगे ना ही मूर्तिकार बड़ी मूर्ति बनाएगा। अब हमें बड़ी मूर्तियां बनाने के पश्चात बड़ा आर्थिक नुकसान हो रहा है। हम चाहते हैं कि प्रशासन या जिला प्रशासन हमें आर्थिक मदद करें क्योंकि साल भर हम मूर्ति बेचकर ही अपना जीवन यापन करते हैं।