Corona के रिकॉर्ड 265 मामले आए सामने, जाने इंदौर की मीडिया की राय

Coronavirus economic impact concept image

इंदौर, आकाश धोलपुरे 

मध्यप्रदेश में कोरोना के एपिसेंटर बन चुके इंदौर में कोरोना को लेकर हालात चिंताजनक बन चुके है। सोमवार को आये कोरोना के रिकॉर्ड 265 मामले शहर के लिए मुश्किलें पैदा करने वाले है। इंदौर में इस माह में 6 दफा ऐसा हो चुका है कि कोविड संक्रमण 6 हजार का आंकड़ा पार कर लिया है जिसके चलते अकेले अगस्त माह में ही कोविड संक्रमण के मामले 4225 मामले सामने आ चुके है जो इस जानलेवा संक्रमण के फैलाव की भयावहता बताने के लिए काफी है। वही इंदौर की जागरूक मीडिया इसके फैलने के कई कारण बता रही है और हम आज से मीडिया सहित शहर के बुद्धिजीवी वर्ग, सामाजिक और राजनीतिक क्षेत्र से जुड़े लोगों से संक्रमण के फैलाव और उसकी रोकथाम के उपाय जानने की कोशिश करेंगे ताकि हम कोविड संक्रमण के फैलाव को रोकने में रत्तीभर की मदद कर सके।

इंदौर में सरकारी आंकड़ो के मुताबिक सोमवार को 265 नए पॉजिटिव मामले सामने आए है जिनमे 11 रिपीट मामले भी बताए जा रहे है। लेकिन एक ही दिन में कोरोना संक्रमण ये सबसे बड़ा सरकारी आंकड़ा है जो बताता है अब मध्यप्रदेश सरकार को इंदौर की चिंता ज्यादा करने की जरूरत है। सोमवार को इंदौर में कोरोना रिकार्ड 265 मामले सामने आने के बाद अब कुल पॉजिटिव मरीजो की संख्या 11673 तक जा पहुंची है जिनमे से 3217 मरीजो का इलाज जारी है और 8088 लोग कोविड से जंग जीतकर अपने घर लौट चुके हैं। वही सोमवार को भी 4 लोगो की मौत कोरोना के कारण हो चुकी है जिसके बाद अब तक इंदौर में कुल

इंदौर में प्रशासन ने भी शहर के हालात पर सोमवार को चिंता जताई थी आज हमने शहर के युवा पत्रकारों से जानने की कोशिश की आखिर संक्रमण तेजी से क्यों फैल रहा है तो उन्होंने ये कारण बताए। पत्रकार महेंद्र सिंह सोनगरा की माने तो निम्न और अशिक्षित वर्ग में कोरोना को लेकर जागरूकता की कमी है वही प्रशासन द्वारा बढ़ाई गई सैम्पलिंग भी इसकी एक वजह मानी जा सकती है इसके साथ ही उन्होंने बताया कि कई लोग अस्पताल किसी बीमारी की वजह से यदि अस्पताल जाते है तो उससे भी संक्रमण फैल रहा है ऐसे में निजी अस्पतालों सहित सरकारी अस्पतालों को कोरोना मुक्त करना वक्त की आवश्यकता है।

इधर, मीडिया से 2 दशक से जुड़े पत्रकार विजय गुंजाल ने बताया कि वर्तमान में जो संक्रमण के मामले शहर में आ रहे है वो यदि सैम्पलिंग बढ़ाई जाए तो आंकड़ा हजार को पार कर जाएगा। इंदौर में बड़ी संख्या में सैम्पल टेस्टिंग की सुविधा नही है और ये ही वजह है कि वर्तमान में आ रहे आंकड़े कम है जबकि हालात इसके विपरीत है। उन्होंने बताया कि संक्रमण के फैलाव को रोकने के लिए लोगो मे घर मे रहना चाहिए लेकिन आर्थिक मजबूरी के कारण ये संभव नही है लिहाजा प्रशासन को लोगो में अवेयरनेस लाने के लिये प्रयास बढ़ाने होंगे वही लोगो को खुद भी जागरूक होना पड़ेगा। इसके अलावा इम्युनिटी पावर बढ़ाने के लिए लोगो को अर्क व काढ़े का नियमित इस्तेमाल करना जरूरी है।

बहरहाल, इंदौर में कोरोना की स्थिति बिगड़ती जा रही है ऐसे में एम.पी. ब्रेकिंग न्यूज आपसे अपील करता है जरूरत हो तो ही घर से बाहर निकले और मास्क पहनने के साथ ही सोशल डिस्टेंसिंग का पालन भी करे। इसके अलावा हेंड सेनेटाइजर के अलावा साबुन से भी बार – बार हाथ धोये ताकि ये खतरनाक वायरस आप तक न पहुंच सके।

Corona के रिकॉर्ड 265 मामले आए सामने, जाने इंदौर की मीडिया की राय