MP में कोरोना का बढ़ता कहर, इंदौर में 5 पॉजिटिव मरीज मिले

इंदौर।आकाश धौलपुरे।
मध्यप्रदेश में भी कोरोना का असर धीरे धीरे बढता जा रहा है। अब इंदौर में 5कोरोना पॉजिटिव मरीज मिले हैं, बुधवार सुबह चार बजे इसकी पुष्टि हुई है। इससे पहले ग्वालियर में एक, जबलपुर में ६, शिवपुरी में १ और भोपाल में एक मरीज की पुष्टी हुई थी।लगातार बढ़ते प्रभाव के चलते भोपाल , जबलपुर और ग्वालियर में कर्फ्यू लगा दिया गया है।

दरअसल, मध्यप्रदेश के जबलपुर और भोपाल के बाद प्रदेश के सर्वाधिक आबादी वाले शहर इंदौर में कोरोना के 5 पॉजिटिव मरीज मिलने से हड़कंप सा मच गया। बता दे कि इंदौर के 5 मरीजों के साथ ही अब प्रदेश में कुल 14 कोरोना संक्रमित मरीज हो गए। मिली जानकारी के मुताबिक इंदौर के एक ही परिवार के 2 सदस्य कोरोना पॉजिटिव बताये गए ये सभी हाल ही में हृषिकेश से लौटे थे और जांच के दौरान दोनों ही सदस्य संक्रमित पाए गए है। इसके अलावा इंदौर से 2 अन्य मरीज और उज्जैन के 1 मरीज को इंदौर में आइसोलेशन में रखा गया है। इनमें से तीन मरीज बॉम्बे अस्पताल, एक अरिहंत में और एक एमवायएच में भर्ती हैं।  5 में से 1 रानीपुर और 1 चंदन नगर क्षेत्र से है। बॉम्बे अस्पताल में एक ही परिवार के 3 लोग है। इनमें से 4 की कोई फॉरेन हिस्ट्री नहीं है। विभाग पता कर रहा है कि किसके संपर्क में आए हैं।

कलेक्टर लोकेश कुमार जाटव ने कहा है कि इस बात को लेकर पैनिक की आवश्यकता नहीं है। सभी मरीज़ों की हालत स्थिर है और वे चिकित्सीय निगरानी में है। सभी का बेहतर इलाज हो रहा है और अन्यत्र संक्रमण नहीं हो, इसके पुख़्ता इंतज़ाम किए गए हैं। कलेक्टर जाटव ने यह भी कहा है कि प्रशासन आम जनता को ज़रूरी सामान घर पर ही उपलब्ध कराने के लिए ठोस उपाय कर रहा है। ज़रूरी सामान घर पर उपलब्ध कराने के लिए ऑनलाइन स्टोर्स , वेंडर और बिक्रेताओं के डिटेल्स जल्द जारी किए जाएंगे ताकि ऑनलाइन ऑर्डर कर घर पर ही आवश्यक वस्तुएँ मिल सके।

मुख्य चिकित्सा एवं स्वास्थ्य अधिकारी डॉ. प्रवीण जाडिया ने बताया कि सभी लोगो की मेडिकल हिस्ट्री के साथ ही ये पता लगाया जा चुका है कि वो कब और कहां कहां किन लोगों से मिले थे। बताया जा रहा कोरोना से प्रभावित मामलो में 5 लोगो को इंदौर के एम.वाय. अस्पताल, अरिहंत और बॉम्बे हॉस्पिटल में इलाज किया जा रहा है। पीएम मोदी की अपील के बाद इंदौर में प्रशासन के आला अधिकारियों ने भी लोगो से अपील की है कि 21 दिन चलने वाले लॉक डाउन को लेकर लोग पैनिक ना हो और खाद्य सामग्री, दूध और मेडिकल व्यवस्था सुचारू रूप से जारी रहेगी ऐसे में लोग घरों पर रहे और समूह में लोग ना मिले साथ ही किसी भी तरह की अफवाह से बचे।