इंदौर में कोरोना बेकाबू, मिलें 227 पॉजिटिव, संक्रमितों की संख्या 10 हज़ार के पार

इंदौर, आकाश धोलपुरे 

मध्यप्रदेश की आर्थिक राजधानी और अब देश की स्वच्छ राजधानी माने जा रहे इंदौर में बेकाबू कोरोना की रफ्तार अपने शबाव पर है। जहां गुरुवार दोपहर को इंदौर में स्वच्छता सर्वेक्षण में लगातार चौथी बार नम्बर 1 आने की खुशी मनाई जा रही थी वही रात होने तक इस खुशी पर कोरोना की नजर लग गई और संक्रमण के मामले में अगस्त माह का चौथा दोहरा शतक भी लग गया है। गुरुवार को चौका लगाने की खुशी मना रहे इंदौर में एक बार फिर कोरोना ने दोहरा शतक लगा दिया है।

एक तरफ मध्यप्रदेश के इंदौर में स्वच्छता सर्वेक्षण में लगातार चौथी बार नम्बर 1 पर रहने की खुशियां मनाई जा रही है वही दूसरी और अगस्त माह में इंदौर को कोरोना के कोपभाजन का शिकार भी इंदौर को होना पड़ा है और अब संक्रमण के मामले में भी देश की सबसे क्लीन सिटी ने अगस्त माह के पहले 20 दिन में कोरोना संक्रमित मरीजो के मामले में चौथी बार 200 का आंकड़ा पार कर लिया है। ऐसे में अब इंदौरवासियो के मन मे चौथी बार नम्बर 1 आने की खुशी होने के साथ ही संक्रमण के चौथे दोहरे का मलाल भी है।

दरअसल, इंदौर में गुरुवार रात को चिकित्सा एवं स्वास्थ्य अधिकारी कार्यालय जिला इंदौर द्वारा जारी की गई रिपोर्ट के मुताबिक कोरोना संक्रमण के 227 नए मामले सामने आए है जिसके बाद इंदौर में एक्टिव केस 3059 हो गए है और इन सभी मरीजो का इलाज कोविड असपतालो में जारी है। प्रदेश में कोविड – 19 से सबसे बुरी तरह से प्रभावित इंदौर में प्रभारी CMHO पूर्णिमा गाडरिया की रिपोर्ट के मुताबिक देश के सबसे स्वच्छ शहर इंदौर में 9 अगस्त को 208, 15 अगस्त को 214, 16 अगस्त को 245 और 20 अगस्त को 227 कोविड पेशेंट सामने आए है। जिसके बाद इंदौर में अब तक कुल संक्रमित मरीजो का आंकड़ा 10786 तक जा पहुंचा है जो एक अनुशासित शहर के लिए खतरे की बड़ी घन्टी है। वही इंदौर में कोरोना के कारण गुरुवार को चार लोगों ने अपनी जान गंवा दी जिसके बाद मरने वालों की संख्या 350 को पार कर 353 तक जा पहुंची है।

हालांकि, प्रदेश की आर्थिक और देश की स्वच्छता की राजधानी माने जाने वाले इंदौर के लिये राहत की बात ये है गुरुवार को 54 मरीज कोरोना को हराकर स्वस्थ होकर डिस्चार्ज हो चुके है और मिलान के बाद डिस्चार्ज होने वाले लोगो की संख्या 180 बताई जा रही है। इसके बाद इंदौर में अब 7374 लोग कोरोना से जंग जीत चुके है याने की रिकवरी रेट करीब 68 प्रतिशत तक जा पहुंचा है वही डेथ रेट 3.27 फीसदी तक जा पहुंची है।
वही सीरो सर्वे के तहत गुरुवार तक इंदौर में 6717 सैम्पल लिये जा चुके है। इधर, संक्रमण की रफ्तार बढ़ने के बाद प्रशासन की चिंता बढ़ गई है और ये ही वजह है कि प्रशासन और चिकित्सा एवं स्वास्थ्य विभाग बार – बार कोरोना संक्रमण की चपेट मे आने से बचने के लिये सोशल गेदरिंग से दूरी बनाए रखने के साथ ही मास्क और सेनेटाइजर के इस्तेमाल करने की अपील कर रहा है।