Covid19 : भविष्य की आशंका को देखते हुए तैयारी जरूरी- मो. सुलेमान

219

इंदौर। आकाश धोलपुरे

मध्यप्रदेश(madhyapradesh) के सबसे संक्रमित जिले(infected district) इंदौर(indore) में प्रदेश के अपर मुख्य सचिव मोहम्मद सुलेमान(mohammad suleman) ने मीडिया(media) बात की। मीडिया से बात करते हुए उन्होंने प्रदेश सहित विशेषकर इंदौर पर सरकार की तैयारियों पर चर्चा की मो. सुलेमान ने कहा कि इंदौर कि स्थति में वाकई सुधार है किन्तु किसी अनहोनी कि आशंका को ध्यान में रखते हुए हमनें प्रदेश में 60 हजार बिस्तरों की व्यवस्था की है। साथ ही 14 हजार बिस्तरों पर ऑक्सीजन की सुविधा उपलब्‍ध रहेगी। ये तयारी भविष्य की सुरक्षा को लेकर जरूरी है।

अमेरिका से आएगी मशीन

सोमवार को कमिश्नर कार्यालय में पत्रकारों(journalist) से चर्चा करते हुए अपर मुख्य सचिव ने कहा कि इंदौर में सैंपल जांचने के लिए हम अमरीका से सबसे आधुनिक मशीन खरीद रहे हैं जिसकी कीमत करीब साढ़े आठ करोड़ रुपए है। भारत में पहली बार यह मशीन इंदौर में ही लाई जा रही है। हम मशीन जल्दी बुलाने की कोशिश कर रहे हैं। इसके लिए अमरीका के कॉरपोरेट ऑफिस(corporate office) तक भी बात की है। हम मशीनों के सहारे नहीं रहेंगे हमारा इलाज जारी रहेगा।

कई जांच लैब हुए शुरू

वहीँ उन्होनें कहा कि हमने इंदौर में 1400 नमूने प्रतिदिन जांचने की क्षमता कर ली है। खंडवा, रतलाम और उज्जैन में भी लैब चालू हो गई है। अब यहां अन्य जिलों के संक्रमितों के रिपोर्ट जांच का भार नहीं है। वहीँ इन इलाकों में करीबन 1400 सैंपलों की जांच प्रतिदिन हो रही है।

कोविड के लिए तैयारी और बचाव

अपर मुख्य सचिव ने कहा कि कोविड(covid) का सबसे अधिक संक्रमण इंदौर में फैला है। लेकिन जिस तरह से स्वास्थ्यकर्मियों और इंदौर की जनता ने इस जगह को संभाला व तारीफ के काबिल है। लोगों को समझना होगा की वायरस(virus) अभी कही नहीं गया। वो यही है हमें उससे मिलकर लड़ना है। खुद का ध्यान रखना है। शारीरिक दूरी बनाए रखना है। उन्होनें कहा कि हमारे लिए सबसे बड़ी चुनौती यह है कि हम समय रहते कोरोना पॉजिटिव(positive) की पहचान कर लें और इलाज(treatment) की समुचित व्यवस्था हो।

बढ़ी टेस्ट क्षमता

वहीँ उन्होनें उम्मीद जताते हुए कहा कि जब कोविड आया था। तब प्रतिदिन हमारी टेस्टिंग क्षमता(testing strength) सिर्फ 60 थी। लेकिन आज हमारी क्षमता 6 हजार से अधिक नमूने टेस्ट करने की क्षमता हो चुकी है। कुछ दिन में यह क्षमता हर दिन 15 हजार नमूने जांचने पर पहुंचेगी।

बता दें कि इस मौके पर इस बैठक में उनके साथ मुख सचिव चिकित्सा शिक्षा संजय शुक्ला, संभागायुक्त आकाश त्रिपाठी, आईजी विवेक शर्मा, कलेक्टर मनीष सिंह, डीआइजी हरिनारायण चारी मिश्र, कंट्रोल रूम के नोडल अधिकारी चंद्रमौलि शुक्ला, जिला पंचायत सीईओ रोहन सक्सेना सहित अन्य अधिकारी मौजूद थे।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here