नौकरी पर गहराया संकट, 4000 पदस्थ कर्मचारी को पद से हटाया, आंदोलन की चेतावनी

वही पत्र में संचालन द्वारा 22 अक्टूबर को वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग में दिए निर्देश का हवाला दिया गया है। अब इस मामले में मध्य प्रदेश शिक्षक कांग्रेस के जिला अध्यक्ष सुभाष सक्सेना का कहना है कि यदि कर्मचारियों को तुरंत बहाल नहीं किया गया तो इस मामले में आंदोलन किया जाएगा।

भोपाल, डेस्क रिपोर्ट। कोरोना (corona) काल में एक तरफ जहां लोग इस महामारी से जूझ रहे हैं। वहीं दूसरी तरफ आर्थिक रूप से भी लोगों को खासा नुकसान झेलना पड़ा है। कितनों ने अपनी नौकरी गवां दी है। वहीं कई लोगों की नौकरी पर खतरा मंडराता नजर आ रहा है। इसी बीच मध्यप्रदेश में हॉयर सेकेंडरी स्कूल, बीआरसी, डीईओ ऑफिस में कार्यरत करीब 4000 से अधिक डाटा एंट्री ऑपरेटर (Data entry operators) को पद से हटा दिया गया है। जिसको लेकर भोपाल बीईओ ने सभी स्कूल प्राचार्य को निर्देश जारी किया है।

दरअसल निर्देश में कहा गया है कि शैक्षणिक सत्र 2019-20 में पदस्थ सभी डाटा एंट्री ऑपरेटर की सेवा को निरंतर किए जाने के लिए अगले आदेश मिलने तक उनसे सरकारी काम नहीं लिया जाएगा। वही पत्र में संचालन द्वारा 22 अक्टूबर को वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग में दिए निर्देश का हवाला दिया गया है। अब इस मामले में मध्य प्रदेश शिक्षक कांग्रेस के जिला अध्यक्ष सुभाष सक्सेना का कहना है कि यदि कर्मचारियों को तुरंत बहाल नहीं किया गया तो इस मामले में आंदोलन किया जाएगा।

Read More: हाटपिपल्या में इस दिग्गज नेता को याद कर भावुक हुए शिवराज, काफिला रोक झुकाया शीश

बता दें कि सभी दफ्तरों में कंप्यूटराइज्ड होने के साथ मैनुअली काम करना बंद कर दिया गया था। जिस के बाद डाटा एंट्री ऑपरेटर को तैनात किया गया था। इनमें से कोई कर्मचारी 4 से कोई 8 साल से इन विभागों में कार्यरत है। जिन्हें आउट सोर्स के जरिए रखा गया था।