डबरा: अस्पताल प्रबंधन की बड़ी लापरवाही, आठ नवजातों की तबीयत बिगड़ी

डबरा/सलिल श्रीवास्तव

भितरवार अस्पताल प्रबंधन की एक बड़ी लापरवाही आज उस समय देखने को मिली जब पोस्ट मेटल वार्ड में भर्ती 8 नवजात बीमार हो गए यह बच्चे कोई गंभीर बीमारी के चलते बीमार नहीं हुए थे बल्कि वार्ड में पंखे और कूलर ना चलने साथ ही खिड़कियों के टूटे शीशों से आने वाली तपिश के चलते बीमार हुए थे जिनका सही समय पर इलाज किया गया जिससे उनकी हालत में सुधार है जब इस लापरवाही के संबंध में भितरवारएसडीएम से बात की तो उन्होंने इसे गंभीर लापरवाही मानते हुए कार्यवाही की बात कही।

आपको बता दें कि भितरवार सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र आसपास के क्षेत्र के लोगों के इलाज का सबसे महत्वपूर्ण केंद्र है। यहाँ प्रति दिन सैकड़ों मरीज़ आते है तो कई डिलीवरी होती है पर प्रबंधन ने गर्मी के चलते वार्ड में क्या अव्यवस्था होंगी। इसके प्रति कभी भी गंभीर होना मुनासिब नहीं समझा। यही कारण रहा कि वार्ड में कूलर भी है और पंखे भी पर चालू नहीं है। ऊपर से सूर्यदेव के तेवर दिन प्रतिदिन उग्र होते जा रहे हैं। जिसके चलते आज पोस्ट मेटल वार्ड में भर्ती 8 बच्चे अचानक बुखार की समस्या से ग्रसित हो गए। जिन्हें तत्काल शिशु रोग विशेषज्ञ द्वारा इलाज उपलब्ध कराया गया जिसके बाद उनकी हालत स्थिर हुई आप नीचे बिडीओ में साफ देख सकते हैं कि महिलाएं किस तरह गर्मी से बेहाल बच्चों को अपने हाथों से हवा कर रही है।

महिलाओं का कहना है कि यह कोई नई समस्या नहीं है पिछले कई दिन से यहां पंखे कूलर चालू नहीं है। यहां गौर करने वाली बात यह है कि गर्मी से पूर्व अस्पताल प्रबंधन को इस प्रकार की अव्यवस्थाओं में सुधार कर लेना चाहिए नहीं तो भविष्य में कोई बड़ी घटना गठित हो सकती है। जिसका ज़िम्मेदार जबाब भी नही दे पायेंगे।

क्या कहा एसडीएम भितरवार के के ग़ौर ने

मामला संघयाँन में है गम्भीर लापरवाही है इस तरह की लापरवाही बर्दास्त नहीं की जायेगी जो भी दोषी होगा उस पर जाँच के बाद कार्यवाही की जायेगी।