Indore Double Murder : बेटी ने अपने प्रेमी के साथ मिलकर माँ और पिता को उतारा मौत के घाट, गिरफ्तार

बकायदा हत्या (Murder) के लिए सुबह 4 बजे लड़की ने दरवाजा खोलकर धनन्जय को घर बुलाया। धनन्जय अपने साथ चाकू (Knife) और दराता (Sickle) लेकर आया था। इसके बाद सबसे पहले माँ पर हमला (Attacked) किया गया और उसके बाद कांस्टेबल पिता की हत्या (Murder) कर डाली। इस दौरान बेटी ने पिता पर गम्भीर आरोप लगाने का एक नोट (Note) छोड़ा जिसमे फर्जी आरोप (Fake Allegations) लगाए गए।

इंदौर, आकाश धोलपुरे। इंदौर के एरोड्रम थाना क्षेत्र के रुक्मणी नगर में गुरूवार सुबह डबल मर्डर (Double Murder) का मामला सामने आया था। दोहरे हत्याकांड (Double Murder) में 15वीं बटालियन में पदस्थ कांस्टेबल ज्योति प्रसाद और उनकी पत्नि नीलम की हत्या (Murder) कर उन्हें मौत के घाट उतार दिया गया था। घटना का पता उस वक्त चला जब पड़ोस के मकान में दादा दादी के घर पर सोकर घर लौटे बेटे ने आवाज लगाई और घर पर ताला देखकर उसके होंश उड़ गए। इसके बाद जब वो अंदर गया तो पता चला कि किसी ने उसके माता पिता की चाकुओं से गोदकर हत्या (Murder) कर दी है, जिसके बाद पुलिस (Police) को सूचना दी गई।

तफ्तीश में जुटी पुलिस ने पहले आस पास के 50 से ज्यादा लोगो से पूछताछ (Inquiry) की और क्षेत्र में लगे करीब 200 सीसीटीवी कैमरों (CCTV Camera) को खंगाला। इसके बाद पुलिस को मिली लीड के आधार पर पुलिस ने 12 घण्टे में दोहरे हत्याकांड (Double Murder) का खुलासा कर आरोपियों को अपनी गिरफ्त में ले लिया।

दरअसल, हत्या (Murder) के बाद से ही पुलिस कांस्टेबल की नाबालिग बेटी (Minor Daughter) लापता थी। पड़ताल में पुलिस को पता चला कि नाबालिग बेटी महावीर मार्ग गांधी नगर में रहने वाले धनन्जय यादव उर्फ डीजे से प्रेम संबंध थे और वो दोनों भागकर शादी करना चाहते थे और राजस्थान (Rajasthan) में सेटल होना चाहते थे। लेकिन पिता के पुलिस में होने के कारण उनके मन मे शंका थी कि वो ढूंढ निकाले जाएंगे। इधर, घटना के बाद धनन्जय उर्फ डीजे भी फरार था।

इंदौर डीआईजी हरिनारायणचारि मिश्र ने घटना का जो खुलासा किया उसके बाद तो हर स्तब्ध रह जायेगा। दरअसल, कांस्टेबल पिता को अपनी बेटी का धनन्जय उर्फ डीजे से मिलना जुलना पसंद नही था, लिहाजा माता पिता अक्सर रोक टोक करते थे। बस इसी बात का बदला (Revenge) लेने और लूट के इरादे से नाबालिग बेटी ने धनन्जय के साथ मिलकर सुनियोजित तरीके से घटना को अंजाम दिया।

बकायदा हत्या के लिए सुबह 4 बजे लड़की ने दरवाजा खोलकर धनन्जय को घर बुलाया। धनन्जय अपने साथ चाकू और दराता लेकर आया था। इसके बाद सबसे पहले माँ पर हमला किया गया और उसके बाद कांस्टेबल पिता की हत्या कर डाली। इस दौरान बेटी ने पिता पर गम्भीर आरोप लगाने का एक नोट छोड़ा जिसमे फर्जी आरोप लगाए गए। वही दोनो ने घर मे रखे 1 लाख 19 हजार रुपये लूट लिए और इंदौर से मंदसौर के लिए बाइक से निकल गए।

दरअसल, दोनो की राजस्थान में रहने की योजना थी, लेकिन पुलिस की नाकेबंदी से घबराकर दोनों वापस इंदौर लौटने लगे और पुलिस ने उन्हें नाकाबंदी कर पकड़ लिया। वही पुलिस ने दोनों आरोपियों से घटना में प्रयुक्त हथियार, बाइक और रुपये बरामद कर जब्त कर लिए है। वही इंदौर डीआईजी ने आरोपियों को उनके सही ठिकाने तक पहुंचाने वाले पुलिसकर्मियों को इनाम देने की घोषणा भी की है।

वारदात को अंजाम देने के बाद बाहर टहलने लगी थी बेटी

अपने प्रेमी के साथ बेरोक टोक जिंदगी जीने की चाह रखने वाली नाबालिग ने अपने माता पिता की हत्या करने की योजना पहले भी बनाई थी, लेकिन 3 दिन पहले बनाई गई योजना पर अमल करते हुए गुरुवार सुबह 4 बजे से 5 बजे के बीच अपने प्रेमी के साथ मिलकर हत्या को अंजाम दे दिया। हत्या को अंजाम देने से पहले बेटी ने सीसीटीवी कैमरे भी बंद कर दिए और 1 घण्टे बाद घर के बाहर टहलने लगी।

फिलहाल, वारदात का खुलासा होने के बाद एक बार आधुनिक समय रिश्तों पर सवाल उठ रहे है क्योंकि इस मामले के सामने आने के बाद लोगो को यकीन नही हो रहा है कोई बेटी प्रेम के जाल में उलझकर क्या अपने माता पिता को मौत के घाट उतार सकती है। लेकिन इंदौर में जो कुछ हुआ वो भयावह तो है ही लेकिन शर्मशार कर देने वाला भी है।