MP में तेजी से बढ़ रहे Dengue के केस, कई जिलों में प्रशासन सख्त, की ये तैयारी

आंकड़ों की मानें तो पिछले साल की तुलना में इस साल डेंगू (Dengue) के 4 गुना मरीज सामने आए हैं।

भोपाल, डेस्क रिपोर्ट। मध्यप्रदेश (madhya pradesh) में Corona की दूसरी लहर थम गई है। वही Third Wave की संभावना को देखते हुए शिवराज सरकार (shivraj government) लगातार समीक्षा बैठक कर रही है। संक्रमित जिलों के कलेक्टरों (collectors) को दिशा निर्देश जारी किए जा रहे हैं। इसी बीच प्रदेश में डेंगू (dengue) के मामले बढ़ रहे हैं। डेंगू के मामले सरकार के लिए चिंता का विषय बन गए हैं।

आंकड़ों की मानें तो पिछले साल की तुलना में इस साल डेंगू (Dengue) के 4 गुना मरीज सामने आए हैं। स्वास्थ्य विभाग (Health department) के अधिकारियों का कहना है कि प्रदेश के उज्जैन (ujjain) संभाग में सबसे ज्यादा डेंगू के मरीज के मिलने से प्रशासन सख्त हो गया है। डेंगू की रोकथाम के लिए कदम उठाए जा रहे हैं।

ज्ञात हो कि बारिश के मौसम में डेंगू ज्यादा तेजी से बढ़ते हैं। थमते पानी में मच्छरों के पनपने से डेंगू के केस में बढ़ोतरी देखी जाती है। इसी बीच स्वास्थ्य विभाग के अधिकारियों द्वारा डेंगू की जांच तेज कर दी गई है। आंकड़ों की बात का यह तो सबसे ज्यादा मामले डेंगू की राजधानी भोपाल, जबलपुर, इंदौर और ग्वालियर में सामने आते थे लेकिन इस साल से सबसे ज्यादा संक्रमित रतलाम मंदसौर छिंदवाड़ा और उज्जैन जिला है।

Read More: MP By-Election पर फिर लगेगा ग्रहण! कोरोना की संभावित तीसरी लहर बनी वजह, याचिका दाय

स्वास्थ्य विभाग के डिप्टी डायरेक्टर हिमांशु जसवार का कहना है कि टेस्टिंग बढ़ा दी गई है। साथ ही मॉनिटरिंग शुरू की गई है। स्वास्थ्य विभाग के  डिप्टी डायरेक्टर हिमांशु जसवार का कहना है कि यदि किसी को ठंड लगकर बुखार आता है और मांस पेशी सहित आंखों के पीछे दर्द हो रहा है तो उसे 24 घंटे के अंदर डेंगू की जांच करवा लेनी चाहिए।

आंकड़ों के मुताबिक जनवरी 2021 से अगस्त 2021 के बीच में डेंगू के करीब 395 मामले सामने आए हैं। जिसमें सबसे ज्यादा मामले मंदसौर में 86, जबलपुर में 62, भोपाल में 63, छिंदवाड़ा में 29, रीवा में 11 मामले सामने आए हैं। पिछले साल की तुलना में इस साल केसों में 4 गुना की बढ़ोतरी देखी गई है।