अपने फार्म हाउस पर मप्र का कड़कनाथ पालेंगे धोनी, झाबुआ से मंगवाए 2 हज़ार चूजों

धोनी के कड़कनाथ पालने की खबर के बाद अब इसकी मार्केटिंग और बढ़ गई है। इस बात की भी चर्चा है कि प्रदेश सरकार धोनी को कड़कनाथ का ब्रांड एंबेसडर बना सकती है।

धोनी

भोपाल, डेस्क रिपोर्ट। क्रिकेट जगत (Cricket World) में मिस्टर कूल (Mr. Cool) के नाम से विख्यात मशहूर क्रिकेटर (Famous Cricketer) और पूर्व भारतीय कप्तान महेंद्र सिंह धोनी (Former Indian Caption Mahendra Singh Dhoni) अब मध्य प्रदेश (Madhya Pradesh) का चर्चित कड़कनाथ मुर्गा (Kadaknath Cock) पालेंगे। उन्होंने इसके लिए झाबुआ (Jhabua) से 2000 चूजे भी अपने फार्म हाउस (Farm House) में मंगवाए हैं। यह खेब उन तक पहुंच भी चुकी है।

फार्मिंग पर ध्यान दे रहे है धोनी

महेंद्र सिंह धोनी क्रिकेट को लगभग अब अलविदा कह चुके हैं। वें अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट के सभी फॉर्मेट से संन्यास ले चुके हैं। इस बार केवल वो आईपीएल में नजर आए। क्रिकेट की व्यवस्था से फुर्सत मिलने के बाद उन्होंने अपना ध्यान फार्मिंग पर केंद्रित कर दिया है, और वे रांची में खेती पर ध्यान दे रहे हैं। धोनी ने अपने फार्म हाउस पर कड़कनाथ मुर्गा पालने का भी तय किया है। इसके लिए उन्होंने झाबुआ जिले के थांदला में रहने वाले विनोद मेघा से 2000 चूजे मंगवाए हैं, जिन्हें वे अपने रांची के फार्म हाउस में पाल रहे हैं।

सरकार बना सकती है ब्रांड एंबेसडर

धोनी के कड़कनाथ पालने की खबर के बाद अब इसकी मार्केटिंग और बढ़ गई है। इस बात की भी चर्चा है कि प्रदेश सरकार धोनी को कड़कनाथ का ब्रांड एंबेसडर बना सकती है। हालांकि वे प्रदेश के अपर मुख्य सचिव जे एन कसौटिया कहते हैं कि धोनी ने कड़कनाथ के चूल्हे जरूर बुलवाएं हैं, पर उन्हें ब्रांड एंबेसडर बनाने पर फिलहाल कोई विचार नहीं चल रहा है।

रोग प्रतिरोधक क्षमता बढ़ाता है कड़कनाथ

कड़कनाथ मुर्गा प्रदेश ही नहीं देश में काफी मशहूर है। दावा किया जाता है कि कड़कनाथ को खाने से शरीर में रोग प्रतिरोधक क्षमता में वृद्धि होती है। यही वजह है कि कोरोना काल में कड़कनाथ की मांग बढ़ी है। प्रदेश सरकार ने भी कड़कनाथ की पैदावार और मार्केटिंग के लिए विशेष योजना तैयार की है।