दिग्विजय ने “टाइगर जिंदा है” पर ली चुटकी, कहा- मैं और माधवराज करते थे शेर का शिकार

भोपाल।

मध्यप्रदेश(madhyapradesh) में आखिर 100 दिन तक सरकार चलाने के बाद शिवराज सिंह चौहान(shivraj singh chouhan) ने मंत्रिमंडल(cabinet) का विस्तार कर दिया है। हालांकि मंत्रिमंडल के विस्तार से साफ जाहिर है कि भले ही कमान शिवराज सिंह के हाथ में हो लेकिन उस पर हुकूमत ज्योतिरादित्य सिंधिया(jyotiraditya scindia) की होगी। इसी बीच राज्यसभा सांसद ज्योतिरादित्य सिंधिया के खुद को “टाइगर जिंदा है” कहे जाने के बाद से जहां एक तरफ ट्विटर(twitter) पर ट्रोलिंग(trolling) शुरू हो गई है। वहीं दूसरी तरफ वरिष्ठ दिग्गज नेता और राज्यसभा सांसद दिग्विजय सिंह(digvijay singh) ने भी सिंधिया पर चुटकी ली है।

दिग्विजय सिंह ने शुक्रवार को एक ट्वीट करते हुए कहा कि जब शिकार प्रतिबंधित नहीं था, तब मैं और श्रीमंत माधवराव सिंधिया शेर का शिकार किया करते थे। इंदिरा जी के वाइल्डलाइफ़ कंज़र्वेशन एक्ट लाने के बाद से मैं अब सिर्फ शेर को कैमरे में उतारता हूँ। वैसे तो दिग्विजय सिंह ने ये कहकर सिंधिया के टाइगर वाले बयान पर चुटकी ली है किंतु इस ट्वीट के कई मायने निकाले जा रहे हैं। एक तरफ जहां ये सवाल उठ रहे है कि क्या सिंधिया का कांग्रेस पार्टी में शिकार किया जा रहा था??

वहीं इस ट्वीट से कुछ यूजर्स ये भी कह रहे कि क्या अब दिग्विजय पिंजरे में उस टाइगर को कैद करेंगे जो सिर्फ प्रदेश में करतब दिखाएगा। वैसे तो दलीलें कुछ भी दी जा सकती है किंतु इतना तो तय है कि शिवराज के मंत्रिमंडल विस्तार के बाद कई बातें खुलकर सामने आने लगी है। जहां एक तरफ तो पार्टी पर दबदबे की बात और दूसरी तरफ मंत्रिमंडल में उनके समर्थकों की बढ़ी संख्या। खैर चर्चाओं के मुताबिक अब देखना दिलचस्प है कि क्या महज कहने को ये बागडोर शिवराज के हाथों में है या आलाकमान ने कुछ अलग सोच रखा है।