सीहोर की डॉक्टर बेटी को मिला सम्मान, भोपाल में दे रही कोरोना को मात

सीहोर ।अनुराग शर्मा

सीहोर मध्य प्रदेश की राजधानी में जहां कोरोना के मरीजों की संख्या प्रतिदिन बढ़ गई है। वहां सीहोर की बेटी कोरोना वॉरियर की भूमिका निभा रही है। भोपाल के जेपी हॉस्पिटल में कार्यरत डा प्रिया शर्मा एमडीएस ( ओरल एंड मैक्सिलोफैशियल सर्जन )बेटी दिन-रात कोरोना की टेस्टिंग में जुटी है ताकि कोरोना के खिलाफ जारी जंग जीती जा सके। सीहोर की यह 27 वर्षीय बेटी डा प्रिया शर्मा शहर के श्रवण का बगीचा सीहोर क्षेत्र की निवासी पिता श्री हेमराज शर्मा है, जो कि वर्तमान में भोपाल के जेपी हॉस्पिटल भोपाल में कार्यरत निरंतर रूप से कोविड-19 महामारी में भोपाल के सबसे संक्रमित क्षेत्र जैसे जहांगीराबाद ,मंगलवारा , कोहेफिजा , टीला जमालपूरा, साकेत नगर ,गोविंदपुरा आदि मे कोरोना के मरीजो की जांच एवं उपचार की ड्यूटी करी अपनी सेवाएं दे रही है का सीहोर ताम्रकार महिला मंडल द्वारा डॉक्टर शर्मा के निवास पर जाकर सम्मान किया गया!

डॉ प्रिया शर्मा दिन रात कई घंटे अपनी सेवा देकर कोरोना को मात देने में जी जान से जुटी है।
कोरोना से जंग के दौरान स्टॉफ के कुछ डॉक्टर्स भी इन दिनों क्वारंटीन हो चुके है। बावजूद इसके सीहोर की यह बेटी कोरोना की इस जंग में अपनी सेवाएं देने के लिए वहां तत्पर है। कोरोना के खतरे को देख पिता ने प्रिया को सीहोर भी बुलाया लेकिन उसने देश सेवा का समय होने के लिए आने से इनकार कर दीया ऐसी विषम परिस्थितियों में गर्मी के इस मौसम में काम करना किसी चैलेंज से कम नहीं है लेकिन अपनों की जान के खातिर उनकी पूरी टीम ने इस भीषण गर्मी को भी मात दे दी है!

पूरा हो रहा मकसद

प्रिया के पिता हेमराज शर्मा एग्रीकल्चरिस्ट और उनकी मां आशा शर्मा हाउस्वाइफ़ है । उन्हे अपनी बेटी की बहुत चिंता है लेकिन उसके जज्बे को देखकर वे गर्व महसूस करते रहे है। प्रिया के पिता की माने तो उन्होने देश सेवा के लिए ही अपनी बेटी को डॉक्टर बनाया था और यह मकसद अब पूरा हो गया है ।