अतिक्रमण हटाने के दौरान हंगामा, कांग्रेस नेता वीर सिंह और पुलिस के बीच हुई झूमा झटकी

कांग्रेस नेता ने इस कार्रवाई को भाजपा के इशारे पर की गई कार्रवाई बताया है।    

ग्वालियर, अतुल सक्सेना।  लक्ष्मण तलैया हनुमान घाटी पर बने हनुमान मंदिर के पास सरकारी जमीन पर बने एक गैरेज को पिछले दिनों खाली करा चुकी प्रशासन की टीम आज सोमवार को भारी पुलिस फ़ोर्स के साथ मौके पर पहुंचा।  प्रशासन की कार्र्रवाई शुरू हो पाती उससे पहले ही वहां कांग्रेस के जिला कार्यकारी अध्यक्ष वीर सिंह तोमर और क्षेत्रीय लोग आ गए।  कांग्रेस नेता,  उनके समर्थक और स्थानीय लोग नारेबाजी करने लगे और कार्रवाई का विरोध करने लगे। इसी दौरान कांग्रेस नेता वीर सिंह तोमर और पुलिस के बीच जमकर झूमा झटकी हुई।  कांग्रेस नेता ने इस कार्रवाई को भाजपा के इशारे पर की गई कार्रवाई बताया है।

शिंदे की छावनी लक्ष्मण तलैया घाटी के पास बने हनुमान मंदिर के नजदीक सरकारी जमीं पर अतिक्रमण कर बनाये गए गैराज को हटाने गए प्रशासन के अमले के साथ कांग्रेस के कार्यकारी जिला अध्यक्ष वीर सिंह तोमर और स्थानीय लोगों की भिड़ंत हो गई।  प्रशासन 14 हजार वर्गफीट सरकारी जमीन पर अतिक्रमण किया गया अतिक्रमण हटाने गया था।  इसी दौरान हंगामा हो गया।  इस दौरान कांग्रेस नेता वीर सिंह तोमर और पुलिस अधिकारियों के बिच खूब झूमाझटकी हुई। उनके समर्थक और स्थानीय नेता जमकर हंगामा करते रहे , लेकिन प्रशासन ने भारी पुलिस फ़ोर्स की मौजूदगी में अतिक्रमण हटा दिया।

ये भी पढ़ें – Gwalior News: पेड़ों की अवैध कटाई की शिकायत की तो मिली धमकी, मामला पहुंचा पुलिस थाने

एसडीएम अनिल बनवारिया, सीएसपी , टीआई और भारी पुलिस फ़ोर्स के साथ आज सोमवार को लक्ष्मण तलैया क्षेत्र से अतिक्रमण हटाने गए थे।  एसडीएम के मुताबिक यहाँ ग्राम आउखाना कलां के सर्वे नंबर 741 की बेशकीमती जमीन पर नासिर नाम के व्यक्ति ने गैराज बना लिया था।  उसे प्रशासन ने पिछले दिनों 11 अगस्त को खाली करा लिया था और  निर्माण हटाने की कार्रवाई की गई।

अतिक्रमण हटाने के दौरान हंगामा, कांग्रेस नेता वीर सिंह और पुलिस के बीच हुई झूमा झटकी अतिक्रमण हटाने के दौरान हंगामा, कांग्रेस नेता वीर सिंह और पुलिस के बीच हुई झूमा झटकी

ये भी पढ़ें – नाबालिग से दुष्कर्म के आरोपी की कलाई पर राखी की जगह बंधी हथकड़ी, 7 साल से था फरार

उधर कांग्रेस के कार्यकारी जिला अध्यक्ष वीर सिंह तोमर ने कहा कि ये बदले की भावना से भाजपा के इशारे पर की गई कार्रवाई है।  यदि स्थानीय लोग नहीं आते तो ये लोग मंदिर भी तोड़ जाते।  कांग्रेस नेता ने कहा कि ये सब निर्माण सरकारी पैसे से हुआ है , मंदिर सार्वजानिक है वहां भंडारा होता है जहाँ सभी आते हैं लेकिन प्रशासन भाजपा के इशारे पर कांग्रेसियों को निशाना बना रहा है।  उन्होंने कहा कि जमीन पर मेरा कोई अतिक्रमण नहीं है मैं मंदिर समिति का अध्यक्ष हूँ।  उन्होंने कार्रवाई को गलत बताया।

ये भी पढ़ें – MP OBC Reservation : शिवराज सरकार ने उठाया ये बड़ा कदम, 1 सितंबर को सुनवाई