कलेक्टर के समझाने के बाद भी नहीं समझ रहे बस ऑपरेटर्स, अपनी मांग पर अड़े

जबलपुर। संदीप कुमांर

बस मालिक है कि मानते नही है उनको कई बार समझाने का प्रयास भी किया गया ये कहना है जबलपुर कलेक्टर भरत यादव का। निजी बस मालिकों के टैक्स माफी का मुद्दा अब प्रशासन और बस मालिको के बूते से बाहर चला गया है। जबलपुर जिला प्रशासन ने इस मामले में किसी भी प्रकार के सहयोग से साफ तौर पर हाथ खड़े कर दिए हैं।

कलेक्टर भरत यादव के मुताबिक निजी बस मालिकों की मांगों से शासन को अवगत करा दिया गया है और जो भी फैसला होगा वह अब शासन स्तर पर ही लिया जा सकेगा यानि प्रशासन के इस रुख से साफ है कि बस ऑपरेटरों को फिलहाल स्थानीय स्तर पर कोई राहत नहीं मिल सकेगी।

दरअसल बस ऑपरेटरों ने प्रशासन के सामने लॉकडाउन की अवधि से लेकर अब तक के टैक्स माफी के साथ ही अन्य सुविधाएं देने की मांग की थी लेकिन लगातार मिन्नतें करने के बाद भी प्रशासन द्वारा बस मालिकों को कोई राहत नहीं दी गई है। कलेक्टर भरत यादव खुद मानते हैं कि सभी प्रकार की गतिविधियों पर रोक लगने के चलते बसों का संचालन प्रभावित हुआ है यहां तक कि सिटी बसों का संचालन भी सभी रूटों पर नही किया जा रहा है।