किसान आंदोलन: सीएम शिवराज का बयान- मध्य प्रदेश के किसान संतुष्ट, बन्द बेअसर

सीएम शिवराज ने कहा कि किसान को किसी भ्रम में रहने की जरूरत नहीं है। उनकी जमीन छीनने का कोई सवाल ही नहीं उठता है।

भोपाल, डेस्क रिपोर्ट। कृषि कानून (Farm Law) को लेकर पूरे देश में मोदी सरकार (Modi government) के खिलाफ किसान आंदोलन कर रहे हैं। जहां किसानों ने मंगलवार 8 दिसंबर को भारत बंद (Bharat Band) का ऐलान किया है। इस बीच मध्य प्रदेश (Madhya Pradesh) के भी कुछ इलाकों में भारत बंद का असर देखा जा रहा है।जिस पर मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान (Chief Minister Shivraj Singh Chauhan) ने अपनी राय रखी है।मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने कहा कि मध्यप्रदेश में किसान पूरी तरह से संतुष्ट हैं।  देश में यदि किसानों को इस कानून से कोई शंका है तो सरकार उन शंकाओं को दूर करेगी और साथ ही किसान अगर कोई तथ्य देते हैं तो उस पर गंभीरता से विचार किया जाएगा।

दरअसल मध्य प्रदेश के मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने एक चैनल से बात करते हुए कहा कि देश के बहुत बड़े हिस्से में आंदोलन नहीं है। मध्यप्रदेश में किसान पूरी तरह से संतुष्ट हैं। इसके साथ ही सीएम शिवराज ने कहा कि किसानों के मन में यदि शंका है तो उस पर चर्चा होनी चाहिए और वह हो भी रही है।

मध्यप्रदेश में मंडी होगी और मजबूत – सीएम शिवराज

सीएम शिवराज ने कहा कि मध्य प्रदेश में हमने मंडी टैक्स को 2 से घटाकर 50 वर्ष कर दिया है मंडी को हम और मजबूत बना रहे हैं। इसके साथ ही कॉन्ट्रैक्ट फार्मिंग से किसानों को लाभ ही होगा। सीएम शिवराज ने कहा कि किसान को किसी भ्रम में रहने की जरूरत नहीं है। उनकी जमीन छीनने का कोई सवाल ही नहीं उठता है। सीएम शिवराज (CM Shivraj) ने कहा कि कृषि बिल को लेकर देशभर में कहीं पर किसानों द्वारा विरोध नहीं किया जा रहा है। हालांकि कुछ किसानों के बारे में संदेह है। जिसके बाद वह अपने विचार रख रहे हैं लेकिन उन किसानों को बरगलाने की कोशिश की जा रही है।

कृषि बिल किसानों के हित में

सीएम शिवराज सिंह कहा कि किसानों को समझाने में हम जरुर सफल होंगे। असंतुष्ट किसानों से चर्चा की जा रही है और कृषि बिल पूरी तरह से किसानों के पक्ष में है। जिसका किसानों को हित लाभ मिलेगा। वही किसान आंदोलन और भारत बंद पर बोलते हुए मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने कहा कि किसानों के लिए बातचीत के दरवाजे खुले हैं और सरकार शंका का समाधान करने के लिए तैयार है लेकिन भारत बंद का कोई औचित्य समझ में नहीं आता है। सीएम शिवराज ने कहा कि राजनीतिक दल किसान आंदोलन की आड़ में राजनीतिक रोटियां सेक रही है।

वहीं कांग्रेस पर आरोप लगाते हुए मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने कहा कि कांग्रेसी विपक्षी पार्टियां नरेंद्र मोदी के खिलाफ मुकाबला मैदान में नहीं कर सकती। इसलिए वह भ्रम की राजनीति के लिए आगे आ गई है। सोनिया गांधी (Sonia Gandhi) अपनी सरकार में कृषि सुधारों की वकालत करती रही है।कॉन्ट्रैक्ट फार्मिंग (contract farming) में जाने के प्रावधान के साथ स्टॉक लिमिट (stock limit) तय होने की बात भी कांग्रेस (congress) द्वारा कही गई थी। अब जब भारतीय जनता पार्टी की सरकार ने कृषि सुधार के तहत कृषि कानून तैयार किए हैं तो कांग्रेसी यूटर्न मार रही है।

Read More: PHOTO – नरोत्तम मिश्रा को BJP ने सौंपी बड़ी जिम्मेदारी, पश्चिम बंगाल में भव्य स्वागत

कांग्रेस पर निशाना

मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने बताया कि कांग्रेस पार्टी ने 2019 के घोषणा पत्र में कहा था कि एसेंशियल कमोडिटीज एक्ट (Essential commodities act) को खत्म किया जाएगा। इसके साथ ही आज किसानों की हितैषी बनी आम आदमी पार्टी (Aam Aadmi Party) यह कानून लागू करके उसे यू-टर्न ले लिया। यह सभी राजनीतिक पार्टियां मिलकर किसानों को बरगलाने का काम कर रही हैं।

सीएम शिवराज ने कहा कि कांग्रेस जैसी पार्टियां लगातार अच्छे कार्यों का विरोध करती है। किसानों से ज्यादा राजनीतिक पार्टियां अपने कार्य को अंजाम दे रही है। सीएम शिवराज ने कहा कि जो खेल कांग्रेस खेल रही है। वह खतरनाक खेल है और कांग्रेस को खेल नहीं खेलना चाहिए। मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने कहा कि छोटे-छोटे दल भारत बंद के नाम पर मैदान में उतरे हैं लेकिन गलतफहमी फैलाकर आग लगाने वाले को हम हरगिज़ सफल नहीं होने देंगे।

Read More: Harda News -नपा अध्यक्ष सुरेन्द्र जैन पर हमले की कोशिश, कर्मचारियों ने पीटा, वीडियो वायरल

केजरीवाल बिन पेंदी के लोटा- सीएम शिवराज

बता दें कि इससे पहले मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने कांग्रेस और दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल(Arvind kejriwal) पर जमकर निशाना साधा था। मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने कहा था कि यह बिल तब लागू किया गया था जब बिहार में चुनाव और मध्य प्रदेश में उपचुनाव समेत कई राज्यों में चुनाव हो रहे थे। यदि किसान कृषि बिल के विरोध में होते तो भाजपा को सभी राज्य में इतनी शानदार जीत नहीं मिलती।

इसके साथ ही अरविंद केजरीवाल पर निशाना साधते हुए मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने कहा था कि वह बिन पेंदी के लोटा है। कब कहां चली जाए उनका पता नहीं चलता। सीएम शिवराज ने कहा था कि अरविंद केजरीवाल सरकार ने 23 नवंबर 2020 को कृषि सुधार कानून को दिल्ली में नोटिफाई किया था लेकिन आज यू टर्न मारकर उसका विरोध कर रहे हैं।

इसके साथ ही सीएम शिवराज ने कहा था कि कांग्रेस एपीएमसी एक्ट (APMC) लागू करना चाहती थी और सोनिया गांधी, मनमोहन सिंह (Manmohan singh) और शरद पवार (sharad pawar) भी इसके समर्थन में थे आज जब हमारी सरकार वही कानून लेकर आई है तो यह विपक्षी पार्टियां विरोध में है। वही सीएम शिवराज ने कहा कि उनके विरोध के बावजूद उनका जनाधार नहीं बढ़ेगा। राहुल गांधी पर बोलते हुए सीएम शिवराज ने कहा था कि राहुल गांधी को यह नहीं पता कि प्याज जमीन के अंदर होती है या ऊपर पर वह इस कानून का विरोध जरूर कर रहे हैं।