गोविंद सिंह का तंज-अब ”महाराज” का आतंक खत्म, भाईचारे से मिले रहे कांग्रेसी

उपचुनाव

ग्वालियर।अतुल सक्सेना। कांग्रेस छोड़कर भाजपा में गए ज्योतिरदित्य सिंधिया पर एक बार फिर वरिष्ठ विधायक एवं पूर्व मंत्री डॉ गोविंद सिंह ने बड़ा जुबानी हमला किया है। उन्होंने कहा कि सिंधिया कि तानाशाही के कारण कांग्रेस के हमारे मित्र सीधे हमसे मिल नहीं पाते थे , अब सिंधिया और उनके परिवार का आतंक खत्म हो गया है और कांग्रेस के लोग आपस में भाई चारे के साथ बिना किसी डर के आपस में मिल रहे हैं।

ग्वालियर में अपने आवास पर चुनिंदा पत्रकारों से बात करते हुए पूर्व मंत्री डॉ गोविंद सिंह ने एक बार फिर ज्योतिरदित्य सिंधिया पर निशाना साधा है। उन्होंने कहा कि प्रदेश की जनता भाजपा के क्रिया कलाप को जानती है। भाजपा का प्रजातंत्र में विश्वास नहीं है। उसने हमारे विधायकों की खरीद फरोख्त कर प्रजातंत्र का अपमान कर विधायकों को तोड़ा है जनता इसका जवाब उप चुनाव में देगी। हमारे विधायकों ने माँ समान पार्टी का अपमान किया, धोखा दिया, घर परिवार को मुसीबत में डाल कर चले गए जनता में उनके प्रति आक्रोश है और यही आक्रोश उप चुनाव में भाजपा का धराशायी करेगा और प्रदेश में एक बार फिर कमलनाथ के नेतृत्व में कांग्रेस की सरकार बनेगी ।

टिकट की आस में कांग्रेसियों से उनकी मेल मुलाकात के सवाल पर डॉ गोविंद सिंह ने कहा मैं पार्टी में किसी जिम्मेदार पद पर नहीं हूँ। कांग्रेस में हमारे बहुत मित्र है लेकिन सिंधिया की तानाशाही और डर के कारण वो मुझसे सीधे मिल नहीं पाते थे अब सिंधिया पार्टी को धोखा देकर चले गए हैं। ज्योतिरदित्य सिंधिया और उनके परिवार का जो आतंक था अब कांग्रेस उससे दूर हो चुकी है और अब सभी कांग्रेसी आपस में भाई चारे के साथ मिलजुल रहे हैं। चर्चा कर रहे हैं। उप चुनाव में भाजपा को धराशायी करने के लिए रणनीति बना रहे हैं। पूर्व मंत्री इमरती देवी के चुनाव हराने की खुली चुनौती के सवाल पर गोविंद सिंह ने कहा कि सिंधिया जी को भी घमंड था, प्रत्याशी को प्यादा कहा था, दावा किया था 8 लाख से जीतेंगे लेकिन सवा लाख से हार गए। रामायण की चौपाई सुनाते हुए गोविंद सिंह ने कहा कि “प्रभु जिसको दारुण दुःख देही, बाकी मति पहले हर लेही”। ये सिंधिया जी पर बिलकुल फिट बैठती है।