पूर्व मंत्री का सिंधिया और शिवराज पर निशाना, आपस में तय कर लो कौनसा झूठ बोलना है

पूर्व मंत्री पीसी शर्मा ने सिंधिया के बयान पर तंज कसते हुए ट्वीट किया, उन्होंने कहा पहले आपस में तय करलो कौनसा झूठ बोलना है, कौन सा जुमला फेंकना है|

भोपाल, डेस्क रिपोर्ट| कृषि कानून (Farm law) के खिलाफ चल रहे किसान आंदोलन (Farmers Protest) और कांग्रेस (Congress) के आरोपों के बीच बीजेपी (BJP) ने मोर्चा संभाल लिया है और पार्टी नेता अब कृषि कानून के समर्थन में खुलकर मैदान में उतर आये हैं| ग्वालियर (Gwalior) में केंद्रीय कृषि मंत्री नरेंद्र सिंह तोमर (Narendra SIngh Tomar) और राज्यसभा सांसद ज्योतिरादित्य सिंधिया (Jyotiraditya Scindia) किसान सम्मलेन में शामिल हुए| यहां सिंधिया ने कांग्रेस पर किसानों को गुमराह करने का आरोप लगाते हुए कहा कि कृषि सुधार कानून आने से किसान अब स्वतंत्र हो गया है और अपनी उपज देश के किसी भी कोने में जहां उसे ज्यादा राशि मिलेगी वहां बेच सकता है। इस पर पूर्व मंत्री पीसी शर्मा ने तंज कसा है|

दरअसल, बीजेपी नेता सिंधिया ने किसान सम्मलेन को सम्बोधित करते हुए कहा कि किसानों के ऊपर पाबंदी थी कि वो अपनी उपज कही बाहर नही बेच सकता था, बिचौलियों पर निर्भर था, लेकिन ये जो कृषि सुधार कानून आया है इससे किसान स्वतंत्र हो गया है और अपनी उपज देश के किसी भी कोने में जहां उसे ज्यादा राशि मिलेगी वहां बेच सकता है। सिंधिया के इस बयान पर पीसी शर्मा ने सवाल उठाये हैं| सिंधिया ने आगे कहा सबका साथ-सबका विकास केवल नारा नहीं है, भाजपा की नीयत भी है। आज भी समर्थन मूल्य पर मुहर लगती है। कृषि कानून काे लेकर विपक्ष झूठ के बीज बाे रहा है, कृषि कानून पर सवाल उठाने वाली कांग्रेस पहले अपने गिरेबान में झांके। उन्हाेंने कहा कि यदि हम बदलेंगे नहीं ताे आगे बढ़ेंगे नहीं।

कौनसा झूठ बोलना है तय कर लो : पीसी शर्मा
सिंधिया के बयान पर पूर्व मंत्री पीसी शर्मा ने ट्वीट कर तंज कसा है| उन्होंने लिखा -‘सिंधिया जी ने अपने मुख्यमंत्री शिवराज जी का वह बयान नहीं सुना है या पढ़ा है, जिसमें वह कहते हैं कि जो भी बाहरी व्यक्ति मप्र में अपनी फसल बेंचने आयेगा तो उसका ट्रक राजसात कर लूंगा, पहले आपस में तय करलो कौनसा झूठ बोलना है, कौन सा जुमला फेंकना है|