युवाओं के रोजगार को लेकर पूर्व मुख्यमंत्री कमलनाथ का बड़ा बयान

कमलनाथ

भोपाल, डेस्क रिपोर्ट

एक तरफ जहां प्रदेश की शिवराज सरकार(shivraj government) युवाओं को लेकर बड़े-बड़े घोषणा कर रही है। रोजगार के नए अवसरों के दावे कर रही है वहीं दूसरी तरफ विपक्ष(opposition) लगातार इस मुद्दे पर सरकार पर हमलावर बना हुआ है। शिवराज सरकार के लगातार ऐलान के बाद कमलनाथ(kamalnath) ने उनपर जमकर निशाना साधा है। सत्ता पक्ष पर निशाना साधते हुए पूर्व मुख्यमंत्री कमलनाथ(former chiefminister kamalnath) ने कहा है कि रोजगार(job) को लेकर न तो इस सरकार की कोई सोच है नहीं कोई योजना। नाथ ने कहा कि रोजगार कि तलाश में युवा ओवरऐज(overage) हो चुके हैं। सरकारी नौकरी(government job) में अवसर बहुत सीमित है। इसलिए निजी क्षेत्रों में रोजगार सृजन(job create) करने की जरूरत है।

दरअसल गुरुवार को प्रदेश के युवाओं को संबोधित करते हुए पूर्व मुख्यमंत्री कमलनाथ ने कहा कि किसी भी देश और प्रदेश के लिए वहां के युवा और किसान दोनों बहुत महत्वपूर्ण है और आज के समय में दोनों ही हताश और निराश हैं। न शिक्षा नीति पर कोई योजना है ना ही रोजगार पर कोई बात। पूर्व मुख्यमंत्री कमलनाथ ने कहा कि जो युवा आज से 5-10 वर्ष पहले कॉलेज की पढ़ाई करके निकले हैं। वह अच्छे भविष्य का इंतजार करते-करते आज ओवरऐज हो गए हैं। पिछले 15 वर्ष में मध्यप्रदेश काफी पीछे रह गया है। ऐसे युवा जो आज पढ़े लिखे हैं। जिन्होंने उच्च शिक्षा प्राप्त की है वह ना तो गांव के रहे हैं और ना ही शहर के। वहीं पूर्व मुख्यमंत्री कमलनाथ ने यह भी कहा कि सरकारी नौकरी में अवसर और मौके बहुत सीमित है इसलिए कमलनाथ ने 15 महीने की अपनी सत्ता में निजी क्षेत्र में नई नौकरियां पैदा करने की योजना बनाई थी। इसको लेकर निवेश को प्रोत्साहन दिया गया था। लेकिन आज के जो सरकार के जो ऐलान है। वह प्रदेश की जनता को भ्रमित करने के लिए हैं।

बता दें कि प्रदेश के मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान(Chiefminister Shivraj Singh Chouhan) ने बड़ी घोषणा करते हुए 2 दिन पहले ही ऐलान किया था कि अब मध्यप्रदेश की सरकारी नौकरी पर मध्य प्रदेश के युवाओं का ही अधिकार होगा। सरकारी नौकरी में 100% आरक्षण देने के बाद घोषणा करते हुए मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने कहा था कि अब प्रदेश के युवाओं को सरकारी नौकरी के लिए सिर्फ एक ही परीक्षा देनी होगी। रोजगार पर भी इन दो बड़े ऐलान के बाद से ही कांग्रेस(congress) लगातार बीजेपी(BJP) पर आक्रमक बनी हुई है। कांग्रेस नेताओं ने मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान के इस ऐलान को चुनावी प्रलोभन तक बता दिया है। अब ऐसे में रोजगार सृजन को लेकर आगे मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान की क्या रणनीति होती है यह देखना दिलचस्प होगा।