स्वरोजगार के लिए समूह लोन में महिलाओं के साथ धोखाधड़ी, मुख्य आरोपी गिरफ्तार

महिलाओं की शिकायत है की स्नेहलता महिलाओं के आधार, वोटर आईडी कार्ड और बैंक की पासबुक की कॉपी भी अपने पास रखती थी।

bhopal

भोपाल, डेस्क रिपोर्ट। मध्यप्रदेश (madhya pradesh) में समूह लोन (group loan) दिलाने के नाम पर महिलाओं के साथ धोखाधड़ी (Fraud) का मामला सामने आया है। इसके बाद मुख्य आरोपी को पुलिस ने गिरफ्तार (arrest) कर लिया है। वही पुलिस स्वरोजगार के लिए लोन देने वाली फाइनेंस कंपनी (fianance company) और बैंक (bank) की भूमिका की भी जांच कर रही है। पुलिस के मुताबिक महिलाओं को स्वरोजगार के लिए फाइनेंस कंपनी और बैंक के एजेंट द्वारा मिलकर लोन उपलब्ध करवाया जाता था। वहीं राजधानी भोपाल की 23 महिलाओं के साथ धोखाधड़ी की गई है।

दरअसल फाइनेंस कंपनी और बैंक के एजेंट के साथ मिलकर मुख्य आरोपी स्नेहलता (snehlata) कंपनियों से लोन स्वीकृत करा दी थी। वही बैंक से पैसे खाते में आने के बाद किश्त चुकाने की बात करके महिलाओं से पैसा लेती थी। जबकि स्नेहलता द्वारा ना लोन की किस्त जमा की जाती थी और ना ही राशि महिलाओं को वापस की जाती थी। वही महिलाओं ने स्नेहलता राठौड़ के खिलाफ लोन की किस्त जमा ना करने की शिकायत की है।

Read More: मिलावटखोर पर कार्रवाई को झटका, कलेक्टर के NSA आदेश को HC ने किया निरस्त

महिलाओं का कहना है कि खाते में लोन की राशि आने के बाद नहीं लगता महिलाओं से मिलती थी और राशि की 80% रकम स्वयं अपने पास रखती थी। वही किस्त भी खुद भरने की बात कहकर किस्त की रकम भी स्नेहलता महिलाओं से ले लेती थी। महिलाओं की शिकायत है की स्नेहलता महिलाओं के आधार, वोटर आईडी कार्ड और बैंक की पासबुक की कॉपी भी अपने पास रखती थी। हालांकि फाइनेंस कंपनी और बैंक को ना ही लोन की राशि उपलब्ध कराई जाती थी और ना ही किस्त की। जिसके बाद लोन की ब्याज समेत राशि बढ़कर 23 लाख 57 हजार के आसपास बताई जा रही है।

वहीं महिलाओं की शिकायत पर पुलिस ने मुख्य आरोपी स्नेहलता को गिरफ्तार कर लिया है। पुलिस ने उम्मीद जताई है कि और भी धोखाधड़ी की शिकार महिलाएं सामने आ सकती है। इसके अलावा पुलिस इस मामले में फाइनेंस कंपनी और बैंक की भूमिका भी की भी जांच कर रही है। ज्ञात हो कि यह बैंक महिलाओं को स्वरोजगार के लिए 20,000 से लेकर 50,000 तक के लोन उपलब्ध कराते हैं। वहीं महिलाओं ने जिन बैंकों से लोन लिया है। उनमें भारत फाइनेंस, आरबीएल फाइनेंस, सेटिंग कंपनी फाइनेंस, शेयर माइक्रोफाइनेंस, एसबीसीएल, आशीर्वाद फाइनेंस और इंसाफ बैंक से लोन लिए गए हैं।