अनोखा प्रदर्शन : सड़क को पिलाया गया ग्लूकोज, प्रदर्शनकारियों ने कहा- मर रही है रोड, इसकी जान बचाई जाए

भोपाल,डेस्क रिपोर्ट। खराब सड़क (road)  हमेशा से ही आम आदमी के लिए आंख का कांटा रही है। खराब सड़क (road) पर सफर करने या आने जाने में लोगों को खासा दिक्कतों का सामना करना पड़ता है। अच्छी सड़क का मुद्दा हमेशा ही चुनावों में कारगर साबित होता है। अच्छी सड़क उम्मीदवार के फेवर में वोट बैंक भी साबित होता है।

सड़क के लिए आम आदमी (common man) किसी ना किसी तरह से प्रदर्शन कर सरकार (government) को जगाने की कोशिश करता है और अपने प्रदर्शन (protest) के जरिए अच्छी सड़क की मांग करता है। इसी अच्छी सड़क की चाहत में भोपाल (bhopal) के बाग मुगलिया क्षेत्र के लोगों ने एक अनोखे प्रदर्शन के जरिए सड़क ठीक करने को लेकर प्रशासन से आग्रह किया। इस प्रदर्शन के तहत प्रदर्शनकारी सड़क को ग्लूकोस (glucose) पिलाते हुए नजर आए,  जिसके बाद से ही ये अनोखा आंदोलन सुर्खियां बटोर रहा है।

दरअसल राजधानी भोपाल के बागमुगलिया एक्सटेंशन कॉलोनी में तीन करोड़ की लागत से बनने वाली 2 किलोमीटर सड़क 4 महीने बाद भी नहीं बन सकी, जिसके कारण वहां के आसपास के रहवासियों को अपना वाहन चलाना मुश्किल हो गया है। इतना ही नहीं बल्कि क्षेत्र के रहवासियों को पैदल चलने में भी काफी दिक्कतों का सामना करना पड़ रहा है।

वही इस अधूरी सड़क को बनवाने को लेकर क्षेत्र के रहवासियों ने सरकार का ध्यान अपनी ओर आकर्षित करने के लिए एक अनोखा प्रदर्शन किया। इस प्रदर्शन के दौरान प्रदर्शनकारी सड़क को ग्लूकोस खिलाते हुए नजर आए। जब प्रदर्शनकारी से पूछा गया कि वह सड़क को ग्लूकोस क्यों खिला रहे हैं तो इसका जवाब देते हुए उन्होंने कहा कि सड़क की जान जा रही है और उसको बचाया जाए।

आगे वे बताते हैं कि कॉरपोरेशन बैंक अरविंद विहार से पुलिस चौकी लहरपुर तक सड़क बनाई जानी थी, उसका डामर का काम तो हो गया है लेकिन सीमेंटेड सड़क थोड़ी सी बनने के बाद अरविंद विहार पैट्रोल पंप, माउंट कार्मेल कान्वेंट स्कूल, यूको बैंक के पास रामेश्वरम चौराहे के पास सड़क खोदकर छोड़ दी गई, जिसके चलते हैं लोगों को आने-जाने में काफी दिक्कतों का सामना करना पड़ता है।

बताया जा रहा है कि नगर निगम द्वारा ठेकेदार का पैसा नहीं दिए जाने के कारण से सड़क का निर्माण बंद कर दिया गया। वहीं इस सड़क को बनाने के लिए करीब 3 करोड़ का टेंडर पास हुआ था। लेकिन पेमेंट नहीं होने के चलते ठेकेदार बीच में ही काम बंद करके चला गया। इस अधूरी सड़क पर नगर निगम द्वारा कोई ध्यान नहीं दिया जा रहा है।

वही खराब सड़क होने के चलते जनता को काफी परेशानी हो रही है।  बता दें कि नगर निगम की वित्तीय स्थिति सुधारने के लिए क्षेत्र के नगर वासियों द्वारा ₹5 का मनी ऑर्डर 14 दिसंबर से भेजा जा रहा है। बता दें कि इस सड़क निर्माण के प्रदर्शन में बच्चों से लेकर बुजुर्ग सभी लोगों ने सरकार से गुहार लगाई है।