भोपाल।
कमलनाथ सरकार में संसदीय कार्यमंत्री गोविंद सिंह(govind singh) से प्रदेश की मौजूदा हालात पर बड़ा बयान दिया है। मंत्री का कहना है कि अभी यह निश्चित नहीं है कि हम अल्पमत में है। बेंगलुरु में बैठे हुए विधायक कमलनाथ(kamalnath) से संपर्क में है और वह कह रहे हैं कि उन्हें जबरदस्ती यहां पर बंदी बनाया गया है। हमें उम्मीद है कि उनमें से कुछ विधायक अब भी कांग्रेस(congress) के साथ हैं। कोरोना के चलते बजट सत्र के टलने के सवाल पर सिंह ने कहा कि कल मंत्रिमंडल की बैठक है। उसके बाद ही कोई निर्णय लिया जाएगा।

आज मीडिया(media) से चर्चा के दौरान मंत्री ने कहा कि भाजपा गैर कानूनी लोभ लालच की राजनीति कर रही है। भाजपा ने हमारे 22 विधायकों का अपहरण कर उन्हें बंगलुरु(bengaluru) में छिपा रखा है। और अब भाजपा कांग्रेस पर अंतर्कलह का दोष लगा रही है। हमारे विधायकों के अपहरण में भाजपा(bjp) का हाथ है। भाजपा गैरकानूनी तरीके से लालच की राजनीति कर रही है। बीजेपी सिर्फ इतना बता दे कि अगर कांग्रेस के अंदर कलह की स्थिति है तो राष्ट्रीय भाजपा अध्यक्ष जेपी नड्डा(j p nadda) बेंगलुरु में कांग्रेसी विधायकों से मिलने क्यों गए हैं। साथ ही उन्होंने कहा है कि भाजपा ने फ्लोर टेस्ट(floor test) की मांग की है। हम फ्लोर टेस्ट के लिए तैयार हैं।

वही कांग्रेस समर्थक मंत्री के बयान के सवाल पर उन्होंने कहा कि सिंधिया(scindia) समर्थक कुछ मंत्री गुलामी के शिकार हो गए है। कुछ लोगों में अपनी राजनीतिक विचारधारा नहीं है। जो भी ज्योतिरादित्य सिंधिया(jyotiraditya scindia) का समर्थन कर रहे हैं वह गुलाम है। उनमें राजनीतिक समझ की कमी है। जिस पार्टी ने उन्हें मान-सम्मान दिया आज उसे छोड़कर सिंधिया के समर्थन में बीजेपी की वकालत में लगे हैं। जोकि बिल्कुल भी उचित नहीं है।

इधर, देश में कोरोना वायरस के बढ़ते खतरे को देखते हुए रविवार को कमलनाथ सरकार ने कैबिनेट की बैठक बुलाई है । कयास लगाए जा रहे है कि 16 मार्च को होने वाले विधानसभा बजट सत्र को स्थगित किया जा सकता है। अब देखना दिलचस्प है कि बजट सत्र अपने यथावत समय पर चलता है या कमलनाथ सरकार को कुछ वक्त और मिल सकता है।